कश्मीर में सेना पर पत्थरों की बौछार.. बुरी तरह घायल हुए राष्ट्र के 50 रक्षक.. तथाकथित सेकुलरिज़्म वाले पत्थरबाजों के साथखड़े

कथित मानवाधिकार तथा धर्मनिरपेक्षता की वो सभी आवाजें अचानक से बंद हो गई हैं जो कश्मीर में सेना के जवानों को पैलेट गन का विरोध आई हैं. इस्लामिक आतंकियों के मददगार उन्मादी पत्थरबाजों के खिलाफ जब-जब भारतीय सेना ने कार्यवाई की कोशिश की, तब-तब तमाम कथित मानवाधिकारी बुद्धिजीवी उन्मादी पत्थरबाजों के समर्थन में तनकर खड़े हो गये तथा देश की रक्षक सेना के जांबाज जवानों के खिलाफ कार्यवाई की मांग की.

मॉर्डन लड़कीं जिद कर रही थी पति से शिखा कटवाने की.. पति बोला – “तलाक मंजूर, पर संस्कार नही त्याग सकता”

देश के अंदर छिपे बैठे सेना के इन्ही विरोधियों से मिले हौसले का ही दुष्परिणाम है कि आज राष्ट्र के 50 रक्षक गंभीर रूप से घायल हैं. जी हाँ, आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के बारामूला में जिहादी पत्थरबाजों ने सुरक्षा में तैनात सुरक्षाबलों पर भीषण पत्थरबाजी की, जिसमें सुरक्षाबलों के लगभग 50 जवान घायल हैं. घायलों में सहायक कमांडेंट भी शामिल है. घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है. बारामूला में अभी भी स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है.

टीपू सुल्तान के जयकारे लगाती कांग्रेस ने अब राजस्थान में वीर सावरकर के खिलाफ लिखवाया ये सब.. आक्रोशित हुआ हिन्दू समाज

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के बारामूला में पिछले कुछ दिनों से स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. मामले की गंभीरता को देखते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुरक्षाबलों की संख्या बढ़ा दी गई थी. सोमवार की दोपहर अचानक लोग सड़क पर उतर आए और उन्होंने सुरक्षाबलों ने पत्थर फेंकने शुरू कर दिये. इस हमले में 50 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए. घायलों में कई की हालत गंभीर बताई जा रही है. सभी घायलों को निकट के अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए इलाके में और भी सुरक्षाकर्मियों की संख्या को बढ़ा दिया गया है.

1 मुसलमान ने फेसबुक पर सिर्फ इतना लिखा था – “आज हँस लो, कल रोना पड़ेगा” .. उसके बाद जो हुआ वो किसी ने सोचा भी न था

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post