धर्म परिवर्तन और विदेशी पैसा मंगाने वाले 6 हजार एनजीओ आ चुके है सरकार की निगाह में. जल्द गिरेगा इन पर सरकारी कहर

विदेशी चंदे से चलने वाले एनजीओ पर खतरे की तलवार लटक रही है। गृह मंत्रालय ने इन सभी एनजीओ को विदेशी चंदे की फंडिंग को लेकर कारण बताओ नोटिस जारी किया है। जिसके बाद सभी एनजीओ को 23 जुलाई तक अपने जवाब दाखिल करने होंगे। अपने नोटिस में मंत्रालय ने पूछा है कि क्यों ना उनका फॉरेन कंट्रीब्यूशन (रेगुलेशन) एक्ट (एफसीआरए) रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर दिया जाए।

बता दें कि लगभग 20 हजार एनजीओ एफसीआरए के तहत रजिस्टर हैं। इन्ही फॉरेन पैसो से बहुत जगह देश में धर्म परिवर्तन, साम्प्रदायिकता, उन्माद फैलाया जाता है। इन बाहर से आने वाले पैसो से गरीबो को पैसे का लालच दे उनका धर्म परिवर्तन कराया जाता है। कुछ मामलो में तो साम्प्रदायिकता नफरते तक फैलाई जाती है। वहीं, लगभग 20 हजार एनजीओ एफसीआरए के तहत रजिस्टर हैं।

नवंबर 2016 में सरकार ने 11,000 एनजीओ को निर्देश दिया था कि अपने रजिस्ट्रेशन के रिन्यूअल के लिए 28 फरवरी, 2017 तक आवेदन करें। इसके बाद फरवरी 2017 तक 3,500 से ज्यादा एनजीओ ने अपने रजिस्ट्रेशन के रिन्यूअल के लिए आवेदन किया। रिन्यूअल अप्लीकेशन न भरने के चलते लगभग 7000 हजार से ज्यादा एनजीओ का रजिस्ट्रेशन खत्म हो सकता है।

Share This Post