आतंक के आकाओं को सुंघा दी गई है जमीन.. जो घूमा करता था कश्मीर में अब वही मीरवाइज पेश होगा दिल्ली में


ये सब वो थे जो भारत का ही पैसा ले कर भारत ही ही हवा में सांस ले कर भारत के खिलाफ भी जहर उगला करते थे . इन्होने तत्कालीन सरकार की तथाकथित सेकुलर छवि में खुद को फिट कर लिया था और भारत की ही सुरक्षा ले कर भारत के ही सुरक्षाबलों पर अपने तेवर आक्रामक रखा करते थे जिसके बदले में पाकिस्तान इनकी पीठ को थपथपाया करता था .. लेकिन अब खुद इनको भी एहसास हो गया है कि समय तेजी से बदल रहा है और इनको कश्मीर से निकाल कर दिल्ली तक लाया गया है .

पहले महबूबा मुफ़्ती के करीबी को गोलियों से भूना, और अब आतंकियों ने किया उमर अब्दुल्ला के करीबी के घर पर ग्रेनेड से हमला

गिलानी , यासीन मालिक के साथ एक नाम ये भी था जो आज दिल्ली में पेश किया जाएगा . इसका नाम है मीरवाइज ..इसको सेकुलरिज्म के तथाकथित सिद्धांतो के चलते अलगावादी कहा जाता था जबकि असल में एक किसी बड़े आतंकी से ज्यादा खतरनाक था इस देश के लिए .. इसको खुली हवा में छोड़ने का मतलब कश्मीर में भारत की सरकार और भारत की सेना के एक दुश्मन को स्वतंत्र करने जैसा था .. लेकिन अब ये झेल रहे हैं वो सब कुछ जिसके ये असल हकदार बहुत पहले से थे .

जिस शिवसेना से कांग्रेस ने कभी पाल रखी थी तमाम उम्मीदें उसी शिवसेना ने राहुल गाँधी को दिया ये नाम

मीरवाइज उमर फारूक आतंकवाद को आर्थिक सहयोग देने से जुड़े एक मामले में एनआईए के सामने आज पेश होंगे. उन्हें हाल ही में तीसरी बार समन भेजा गया था जिसमें उन्हें आश्वस्त किया गया था कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) उनकी पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करेगी. मीरवाइज उमर फारूक श्रीनगर से दिल्‍ली के लिए रवाना हो चुका है . पाकिस्तान की तरफ से जम्मू कश्मीर में होने वाली टेरर फंडिंग के केस में एनआईए ने श्रीनगर के अलग-अलग अलगवादियों के ठिकानों पर छापे मारे थे जिसमें भारी मात्रा में इन अलगाववादियों के घर से आतंकी संगठनों के लेटर हेड समेत पाकिस्तान के वीजा से संबंधित दस्तावेज मिले थे. जिन अलगाववादियों के घर पर एनआईए की टीम ने छापे मारे थे. उनके नाम यासीन मलिक, शब्बीर शाह, मीरवाइज़, अशरफ खान ,अकबर भट्ट और नईम गिलानी है.

धारा 370 पर भारत के कुछ नेताओं की ही भाषा बोला पाकिस्तान.. शब्द भी वही और अंदाज भी वही


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share