दुर्दांत आतंकी जाकिर मूसा के सगे भाई को एडमिशन मिला था इस इंस्टिट्यूट में

भारत को “गजवा ए हिन्द” बनाने का सपना देखने वाले दुर्दांत इस्लामिक आतंकी जाकिर मूसा के भाई को हिंदुस्तान के नामी इंस्टिट्यूट में एडमिशन मिला हुआ था तथा उसका वह उस इंस्टिट्यूट से ही भारत को तबाह करने की गतिविधियाँ चला रहा था. पंजाब के जालन्धर के सी.टी इंस्टीच्यूशन से गिरफ्तार हुआ आतंकी मोहम्मद रफीक भट्ट जैश- ए- मोहममद के आतंकी जाकिर मूसा का सगा भाई निकला है. सूत्रों की मानें तो कुछ समय पहले घाटी में रिश्तेदार की शादी में शामिल होने के जालंधर में पढ़ाई कर रहा रफीक भट्ट जेएंडके के लिए रवाना हुआ था. वह पहले चंडीगढ़ रहते अपने दोस्त के पास रुका और कुछ समय रूकने के बाद वह चंडीगढ़ से बाय एयर जेएंडके चला गया. शादी समारोह से वापिस आने के लिए वह गाड़ी में जालंधर आया.

बताया जा रहा है कि पठानकोट के आगे उसे किसी ने विस्फोटक सामग्री थमाई जिसे लेकर वह जालंधर आ गया. इससे पहले कुछ विस्फोटक सामग्री जाहिद गुलजार धारीवाल से लेकर सीटी इंस्टीट्यूशन में रख चुका है. जबकि कुछ विस्फोटक सामग्री रफीक  भट्ट लेकर आया था. पुलिस ने पहले ही दिन सीटी इंस्टीट्यूशन को होस्टल के रूम से सारी विस्फोटक सामग्री बरामद कर ली थी. रफीक भट्ट की पूछताछ में जब यह सामने आया तो चंडीगढ़ पुलिस ने वहां रहते रफीक भठ्ठ के दोस्त को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की.

पुलिस पूंछताछ में रविवार को गिरफतार आतंकी रफीक भट्ट ने अपना बयान बदल लिया. अब रफीक भठ्ठ ने बोला कि उसने अमृतसर से पहले आने वाले मानावालां से एके-57 ली थी. उसे एक युवक एके-57 थमा गया था लेकिन उसे युवक के बारे कुछ पता नहीं. एके-57 एक बैग में थी. इससे पहले जाहिद गुलजार ने दावा किया था कि एके-57 तरनतारन के पुल के नीचे से ली थी. आतंकियों से अलग-अलग करके की गई पूछताछ में अब रफीक ने यह बयान दिया है. पुलिस अब मानावालां के पास से टोल प्लाजा की सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है. जिस समय एके-57 की डिलवरी हुई उस समय कौन – कौन से वाहन टोल प्लाजा से निकले, उसकी जांच की जाएगी.

Share This Post

Leave a Reply