घर की कलह बनी IAS अफसर की मौत का कारण.. बीबी और ससुर से था हद से ज्यादा तंग

आईएएस ऑफिसर मुकेश पांडेय ने आत्महत्या कर सबको चौका दिया। मुकेश पांडेय 2012 बैच के आईएएस ऑफिसर और बक्सर के डीएम थे। उनके अचानक ये कदम उठाने से घर-परिवार सहित दोस्त भी सदमे में हैं। मुकेश ने सुसाइड करने से पहले अपने कई दोस्तों और रिश्तेदारों को एसएमएस कर सुसाइड करने की जानकारी दी थी। मुकेश के शव को गाज़ियाबाद से बरामद किया गया। डीएम मिनिस्ती एस. के अनुसार बृहस्पतिवार सुबह ही मुकेश पांडेय दिल्ली पहुंचे थे।

वहां जाकर वो लीला पैलेस होटल में ठहरे और वहीं, से उन्होंने अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को अपने सुसाइड करने के फैसले के बारे में शाम करीब पांच बजे बताया। दोस्तों को पता चलते ही उन्होंने दिल्ली पुलिस को इस मामले के बारे में जानकारी दी। पुलिस जल्द ही हरकत में आ गयी और लीला पैलेस होटल के कमरे में पहुंची तो बालकनी में उनका मोबाइल पड़ा था। बैग में एक सुसाइड नोट था। दोस्त दिल्ली पुलिस की मदद से दिल्ली के मॉल्स में ढूंढ रहे थे। लेकिन मुकेश ने गाजियाबाद आकर सुसाइड कर लिया।
बता दें कि जनक पुरी डिस्ट्रिक्ट सेंटर के एक मॉल की सीसीटीवी फुटेज में वह दिखाई दिए। इस जानकारी के बारे में एनसीआर पुलिस को इतल्ला किया गया तो कोटगांव फाटक के पास ट्रेन से कटे एक व्यक्ति से उनकी कद-काठी मिलती दिखी। जांच पड़ताल करने पर जेब से मिले आईडी कार्ड, पैन कार्ड और विजिटिंग कार्ड से उनकी पहचान हो सकी। जानकारी मिलते ही देर रात पहुंची मुकेश की पत्नी, सास, ससुर और साला बेहद दुखी दिखे।
मुकेश की पत्नी उसे कोसती हुई दिखाई पड़ी। ससुर ने रोते हुए कहा कि सुसाइड केसमय मुकेश को तीन माह की दुधमुंही बेटी तक का ख्याल नहीं आया। अगर पता होता कि दामाद इतना कायर है तो उससे कभी बेटी की शादी नहीं करते। पत्नी का रो रोकर बुरा हाल हो गया और रोते हुए बोली मुकेश उन्हें धोखा देकर चले गए। डीएम ने बताया कि सीएमओ की अध्यक्षता में बनाया पैनल आईएएस का पोस्टमार्टम करेगा। उनकी पॉकेट डायरी और पेज पर मिले दोनों सुसाइड नोट में उन्होंने सुसाइड के लिए खुद को जिम्मेदार ठहराया है। उधर, अधिकारियों ने दबे शब्दों में बताया कि सुसाइड के पीछे पारिवारिक विवाद सामने आ रहा है।
Share This Post

Leave a Reply