Breaking News:

यूपी-उत्तराखंड में जीत दर्ज करने के बाद दिल्ली MCD चुनाव को लेकर BJP ने लिया फैसला

नई दिल्ली : विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करने के बाद अब बीजेपी ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के मुकाबले के लिए अगले महिने होने वाले दिल्ली नगर निगम चुनावों के लिए कमर कस ली है। जानकारी के मुताबिक, पार्टी ने एमसीडी चुनाव के मद्देनजर किसी भी वर्तमान पार्षद या उसके रिश्तेदार-परिवार के किसी सदस्य को टिकट नहीं देने का फैसला लिया है।

पार्टी का दावा है कि उसने यह कदम परिवारवाद की राजनीति खत्म करने के लिए उठाया है। जानकारी के मुताबिक, पार्टी एकदम नए और युवा चेहरों के साथ मैदान में उतरेगी। दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी को अपनी इस योजना के लिए हाईकमान से हरी झंडी भी मिल गई है। मनोज तिवारी के मुताबिक पार्टी अच्छे उम्मीदवारों का चुनाव करेगी, जो न सिर्फ जमीनी स्तर पर काम करने वाले हों, बल्कि उनकी ग्राउंड रिपोर्ट भी ठीक हो।

तिवारी के मुताबिक, नए चेहरों से एमसीडी के कामकाज में नई ऊर्जा और उत्साह लाया जा सके, इसीलिए ये फैसला किया गया है। वहीं, आम आदमी पार्टी दिल्ली नगर निगम चुनाव को लेकर अपनी रणनीति में बदलाव करेगी। पार्टी सूत्रों ने कहा कि पंजाब और गोवा के मत परिणाम से बड़ा झटका लगा है। पार्टी इससे उबर रही है। सबसे महत्वपूर्ण है कि एमसीडी चुनाव को लेकर होली के बाद समीक्षा बैठक होगी। बैठक में आने वाले सुझाव के आधार पर रणनीति में बदलाव किया जाएगा।

एमसीडी चुनाव पर पार्टी और अधिक ध्यान देगी। पार्टी कुछ अन्य प्रयोग भी कर सकती है। आप नेताओं की मानें तो, नोटबंदी की भारी परेशानी के बाद भी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भाजपा को जनता ने समर्थन जरूर दिया है, मगर इसे दिल्ली नगर निगम चुनाव से जोड़कर नहीं देखा जा सकता है। निगम चुनाव में स्थानीय मुद्दे हैं। निगम स्तर पर भाजपा फेल है। निगमों में भ्रष्टाचार से जनता परेशान है। मगर चुनाव के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है। इसे देखते हुए अब पार्टी और अधिक सक्रिय होगी।

दूसरी तरफ बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि पार्टी चुनाव जीतने के लिए अपनी पूरी ताकत लगाएगी। उन्होंने कहा कि पार्टी चुनाव प्रचार के लिए दिग्गज नेताओं को मैदान में उतारेगी। पार्टी के कई वरिष्ठ सांसद और नेता जनसभाओं को संबोधित करेंगे ताकि पार्टी की राज्य में मजबूत पकड़ बनाई जा सके।

Share This Post