चिराग जलाने वाला भी नहीं बचा पुलवामा के असल गुनाहगार के घर में.. भाई बहनोई सब राख

जब नरेन्द्र मोदी ने एलान किया था कि पुलवामा का बदला लिया जाएगा तब कईयों ने इसको अपने अपने अंदाज़ में परिभाषित किया था जिसमे से कुछ ऐसे भी थे जिन्होंने इसको गंभीरता से नहीं लिया था . उन्ही में से शायद आतंकियों का वो खानदान था जिसने इस पूरे मामले को आपरेट किया था . भारत के लड़ाकू विमानों की आवाज के बाद आई बारूदों की धमक में एक पूरा परिवार सदा के लिए खामोश हो गया है जिसने भारत के 40 से ज्यादा परिवारों को बेसहारा किया था .

ज्ञात हो कि भारत वालों की खून का बदला खून की मांग आखिरकार पूरी हो गयी है और भारत की वायुसेना ने बलिदान हुए CRPF वीरों के मुद्दे पर सबूत मांग रहे गद्दार और दरिन्दे पाकिस्तानियों को ताबूत भेजा है . भारत के ही एक हिस्से पाक अधिकृत कश्मीर जिसको POK भी बोला जाता है,  के बालाकोट में जिस आतंकी कैंप पर वायुसेना ने हमला किया है, वहां पर न सिर्फ मौलाना मसूद अजहर का भतीजा युसुफ अजहर बल्कि उसका भाई समेत कई आतंकी मौजूद थे। इस हमले में 300 से ज्यादा वो दुर्दांत आतंकी आतंकी मारे गए हैं  जो भारत के अन्दर घुसने की कोशिशे कर रहे थे .

न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने पीओके के बालाकोट की कुछ तस्वीरें ट्वीट की हैं। ऐसा लगता है कि यह तस्वीरें वायुसेना के हमले से पहले ग्राउंड इंटेलीजेंस से हासिल की गई थीं। इनमें जैश का हथियारों का भंडार, जैश मुख्यालय की सीढ़ियां, जिन पर इजरायल, अमेरिका और ब्रिटेन के झंडे पेंट किए हुए दिख रहे हैं। पीओके में भारतीय वायुसेना द्वारा की गई कार्रवाई के बार में भारत ने अमेरिका, रूस और चीन को जानकारी दे दी है। 2016 में उरी आतंकी हमले के जवाब में नियंत्रण रेखा के पास सर्जिकल स्ट्राइक का नेतृत्व करने वाले लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डीएस हुड्डा ने वायुसेना द्वारा पीओके में आतंकियों के खिलाफ की गई कार्रवाई की तारीफ की है।

Share This Post