आतंकवाद का धर्म डोनाल्ड ट्रंप ने बताया तो घुसपैठियों का स्वरुप निर्धारित किया अमित शाह जी ने.. जानिये शरणार्थी कौन हैं और घुसपैठी कौन ?

अमेरिका के टेक्सास के ह्यूस्टन का NRG स्टेडियम उस समय तालियों की गडगडाहट से गूँज उठा जब हाऊडी मोदी कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भरे मंच से लान किया कि वह भारत के साथ मिलकर रेडिकल इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ेंगे, इस्लामिक आतंकवाद का खात्मा करेंगे. ट्रंप के इस बयान का स्टेडियम में मौजूद करीब 60 हजार लोगों तथा स्वयं पीएम मोदी ने खड़े होकर तालियां बजकर स्वागत किया था.

जिस तरह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंक का धर्म बताया था, ठीक उसी अंदाज में भारत के गृहमंत्री अमित शाह ने घुसपैठियों के स्वरुप को निधारित कर दिया है. पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में NRC अपर आयोजित संगोष्ठी में गृहमंत्री अमित शाह ने साफ़ शब्दों में कहा कि एनआरसी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बेहद जरूरी है और इसे हर हाल में लागू किया जाएगा. गृहमंत्री शाह ने कहा कि किसी भी हिंदू, सिख, जैन और बौद्ध शरणार्थी को देश से जाने नहीं दिया जाएगा. वहीं, घुसपैठियों को भारत में रहने नहीं दिया जाएगा.

गृहमंत्री शाह ने कहा कि मैं आज यहां सभी शंकाएं दूर करने आया हूं. ममता दीदी ने कहा कि अगर एनआरसी लागू हुआ तो लाखों हिंदुओं को बंगाल छोड़ना पड़ेगा. इससे बड़ा झूठ नहीं हो सकता. मैं विश्वास दिलाता हूं, ऐसा कुछ नहीं होगा. मैं आपको स्पष्ट कहना चाहता हूं कि हम एनआरसी ला रहे हैं, उसके बाद हिंदुस्तान में एक भी घुसपैठिए को रहने नहीं देंगे, उन्हें चुन-चुनकर बाहर करेंगे. बीजेपी सरकार एनआरसी के पहले सिटिजन अमेंडमेंट बिल लाने वाली है, इस बिल के तहत भारत में जितने भी हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई शरणार्थी आए हैं उन्हें हमेशा के लिए भारत की नागरिकता दी जाने वाली है.

अमित शाह ने कहा, ‘पहले दुर्गापूजा में मूर्ति विसर्जन के लिए कोर्ट में जाना पड़ता थ.  इस बार मैं दुर्गापूजा में आरती करने आया हूं, किसी की हिम्‍मत नहीं है दुर्गापूजा रोकने की. वसंत पंचमी पर देख लीजिएगा किसी की हिम्‍मत नहीं होगी वसंत पंचमी को रोकने की क्‍योंकि आपने 18 सीटें भारतीय जनता पार्टी को दी हैं.’ अमित शाह ने कहा, ‘देश में दूसरी बार पीएम के नेतृत्‍व में बीजेपी पहली बार 300 का आंकड़ा पार कर पाई. इसमें सबसे ज्‍यादा योगदान प बंगाल की जनता का है. पश्चिम बंगाल के अंदर अगर जनता परिवर्तन न करती तो 300 सीट पार नहीं कर पाती बीजेपी. मैं भरोसा दिलाना चाहता हूं कि 18 सीटें जिता कर परिवर्तन की जो इच्‍छा जताई है, अगली बार बंगाल में भी निश्चित रूप से बीजेपी सरकार बनने जा रही है.’

इस मंच से गृह मंत्री अमित शाह ने एक बार फिर श्यामा प्रसाद मुखर्जी पर पार्टी का नारा दोहराते हुए कहा कि जहां हुए बलिदान मुखर्जी वह कश्मीर हमारा है. अमित शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाने की अवाज सबसे पहले पश्चिम बंगाल से ही उठी. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने यहीं से एक देश, एक संविधान का नारा दिया था. अमित शाह ने कहा कि इसी बंगाल के सपूत डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने नारा लगाया था कि एक देश में दो प्रधान, दो विधान और दो संविधान नहीं चलेंगे. भारत मां के इस महान सपूत को गिरफ्तार किया गया था और रहस्यमय तरीके से उनकी मृत्यु हो गई.

उन्होंने कहा कि श्यामा प्रसाद की शहादत के बाद कांग्रेस को लगा कि मामला अब समाप्त हो गया, लेकिन उन्हें पता नहीं कि हम भाजपा वाले हैं किसी चीज को पकड़ते हैं तो फिर उसे छोड़ते नहीं हैं. आपने इस बार भाजपा सरकार बनाई और हमने एक ही झटके में 370 को उखाड़कर फेंक दिया. इसी तरह से हम देश से घुसपैठियों को बाहर करेंगे लेकिन किसी भी हिंदू, सिख, जैन और बौद्ध शरणार्थी को देश से जाने नहीं दिया जाएगा.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share