“में मुक्त विचारों की लडकी थी, जब लव जिहाद सुनती थी तो झूठ लगता था, लेकिन वो मेरे साथ ही हो गया” .. बाड़मेर का कश्मीर कनेक्शन

उसका कहना है कि वो भले ही हिन्दू थी लेकिन मुक्त विचारों की , वो कालेज में पढ़ती थी तो तमाम लोगों के मुह से लव जिहाद जैसे शब्द निकलते थे, तब वो उन्हें गलत मानती थी और कहती थी कि वो उनसे सहमत नहीं है . इसी बीच उसकी मुलाकात कालेज में ही कश्मीर के एक लड़के गुलज़ार से हुई . उसके लिए तो मानवता सबसे बड़ी थी और हिन्दू मुसलमान सब एक समान .. इसलिए उसने भी उस से दोस्ती की और बात वहीँ से इतनी आगे बढ़ गयी जो बाद में सम्भाले नहीं सम्भली ..

बाड़मेर की लड़की व कश्मीर के लड़के का कथित लव जिहाद का यह मामला मीडिया की सुर्खियां बनने के बाद नवनियुक्ति एसपी राशि डोगरा डूडी ने मामले में संज्ञान लेते हुए लड़की व उसके परिवार को बुलाकर जानकारी जुटाई और पीड़िता को न्याय का भरोसा दिलाया। एसपी राशि डोगरा ने बताया कि मामले की जानकारी जुटाई है। कुछ नए तथ्य सामने आए हैं। पीड़िता ने पूर्व में जो बयान दिए थे, वो उसके मुताबिक दबाव में आकर दिए थे। अब मामले की जांच सीओ को सौंपी गई है। पुलिस टीम श्रीनगर भी भेजी हुई है।

लड़की का आरोप है कि श्रीनगर में उससे उर्दू व अंग्रेजी में लिखे दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करवाए गए और इसके बाद तीन माह तक पाकिस्तान बॉर्डर के पास के अनजान गांव में रखा। फिर उसे वह अपने घर कुपवाड़ा लेकर आया। घर पर उसके भाई इकबाल ने लड़की को नमाज और गौमांस खाने के लिए मजबूर किया। लड़की का कहना है कि उसकी धर्मनिरपेक्ष मानसिकता का ऐसा दुरूपयोग किया जाएगा उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा था .

लड़की का कहना है कि उसने मुस्लिम बनने और गौमांश खाने से साफ इनकार किया तो मारपीट की गई। इसके बाद उसके भाई ने मुझे हाथ में गोलियां दिखाई और बोला कि गोलियों का वजन कितना भारी है जब निकलती है तो बहुत धुआं निकलता है। युवक के भाई ने उससे अपने घर पर एक वीडियो भी बनाया, जिसके बीस बार रीटके हुए थे। उस वीडियो में लड़की से गुलजार के पक्ष में बोलने को कहा गया था। ऐसा नहीं करने पर उसके परिवार की जान को खतरा बताया गया।

Share This Post