सेना के अंदाज़ में आई UP पुलिस.. अब मेरठ ढेर कर दिया दुर्दांत इनामी अपराधी शकील को


ये वही मेरठ है जहाँ कुछ समय पहले पलायन आदि की खबरों ने लखनऊ से ले कर दिल्ली सरकार तक को उधर देखने पर मजबूर कर दिया था.. यहाँ आये दिन कुछ न कुछ ऐसा हो रहा था जो जनता को पुलिस से और अधिक कड़ाई करने की अपेक्षा करने पर मजबूर कर देता था लेकिन अब वही मेरठ एक बार फिर से चर्चा में अपने नए पुलिस अधीक्षक अजय साहनी के नेतृत्व में जहाँ खुद को सिकन्दर समझने वाले दो दुर्दांत अपराधी अपने कुकर्मो का दंड मुठभेड़ में पा चुके हैं .

इसमें से सबसे बड़ा नाम दुर्दांत अपराधी और नामी लुटेरे शकील का है जो लगभग 10 लाख रूपये की लूट के बाद पुलिस की हिट लिस्ट में था.. पुलिस ने पूरा मौका दिया उसको और उसके साथी भूरा को कि वो आत्मसमर्पण कर के कानून के हवाले कर दें पर उन दोनों के सर पर सवार था और एक गलतफहमी के भी शिकार थे वो दोनों .. इसी के चलते उन्होंने मेरठ पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग करनी शुरू कर दी जिसका जवाब उनको गोली से ही मिला और उसका एक सुखद प्रतिफल रहा ..

मेरठ पुलिस शकील और भूरा नाम के इन दोनों मोस्ट वांटेड बदमाशों की सटीक सूचना मिल रही थी जिस पर सीओ और इंस्पेक्टर की टीमों ने पल्लवपुरम फेस-2 की उदय पार्क कॉलोनी की घेराबंदी कर ली. इस दौरान बदमाशों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हो गई, जिसमें शकील और भूरा ने पुलिस टीम पर गोलीबारी कर दी. पुलिस की जवाबी फायरिंग में दो बदमाश ढेर हो गए, जिनकी शनाख्त शकील और भूरा के रूप में की गई. मुठभेड़ के बाद पुलिस ने इन बदमाशों के पास से 2 हैंड मेड पिस्टल लूट के 4.25 लाख रुपए बरामद किए हैं.

मेरठ के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 9.90 लाख लूट को अंजाम देने का मास्टरमाइंट और गैंग का सरगना शकील निवासी पल्हैड़ा था, जो थाना पल्लवपुरम का हिस्ट्रीशीटर है और उसके खिलाफ एक दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं. लूट की घटना में उस वक्त उसके साथ जाकिर कॉलोनी लिसाड़ी गेट निवासी भूरा भी था. इन दोनो दुर्दांत अपराधियों के मारे जाने से मेरठ की आम जनता , ख़ास कर व्यापारी वर्ग ने ख़ुशी का इजहार किया है और मेरठ के अलावा बाकी जिलों से भी पुलिस अधीक्षक अजय साहनी को धन्यवाद दिया जा रहा .


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...