एक बार फिर भारत की फौज ने की है सर्जिकल स्ट्राइक.. इस बार साथ थी इस्लामिक आतंक को जड़ से उखाड़ फेंकने वाली एक और सेना

पाकिस्तान के बालाकोट में इस्लामिक आतंकी कैंपों पर एयरस्ट्राइक के बाद भारतीय सेना ने एक बार फिर से देश के दुश्मनों के खिलाफ एक और सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया है तथा आतंकी कैंपों को नेस्तनाबूद कर दिया है. इस सर्जिकल स्ट्राइक में भारतीय सेना को उस म्यांमार की सेना का भी साथ मिला जिसने अपने मुल्क से इस्लामिक आतंक को जड़ से उखाड़ फेंका है तथा इस कारण वह संपूर्ण इस्लामिक जगत की आँखों की किरकिरी बनी हुई है.

25 वो आदिवासी जिन्हें कर दिया गया था गुमराह, उन्होंने फिर से ओढ़ लिया भगवा.. लौटे सत्य सनातन की शरण में

आपको बता दें कि भारतीय सेना ने नार्थईस्ट में म्यांमार की सीमा से लगे इलाकों में बने उग्रवादी कैंप पर सर्जिकल स्ट्राइक की है. भारत और म्यांमार सेना के संयुक्त ऑपरेशन में इस सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया और कई उग्रवादी कैंप को नेस्तानाबूत कर दिया गया. इस स्‍ट्राइक को ‘ऑपरेशन सनशाइन-2’ का नाम दिया गया. एक महीने से अधिक चलने वाले इस सैन्य ऑपरेशन से नॉर्थ ईस्ट क्षेत्र में पांव पसार चुके उग्रवाद को तगड़ा झटका लगा है.

18 जून: जन्मजयंती के एस सुदर्शन जी.. पंचम सरसंघचालक, जिनकी दिखाई प्रेरणा आज भी प्रशस्त करती है राष्ट्रवादियो का मार्ग

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक़, के मुताबिक यह ऑपेशन 16 मई से शुरू किया गया, जो 8 जून तक चलाया गया. ऑपेशन में इंडियन आर्मी के दो बटालियन के अलावा स्पेशल फोर्स, असम राइफल्स और घातक इन्फेंट्री के जवान शामिल थे वहीं म्यांमार सेना ने अपनी विशेष टीम तैयार की थी. पिछले काफी समय से म्यामांर बॉर्डर पर उग्रवादी गतिविधियों में तेजी देखी जा रही थी। बताया जाता है कि इस कार्रवाई में कई उग्रवादी कैंप पूरी तरह से तबाह कर दिए गए हैं तथा उनमें  उग्रवादियों को निकलने का मौक़ा भी नहीं मिला. बता दें कि  इसी साल 22 से 26 फरवरी के बीच दोनों देशों ने ‘ऑपरेशन सनशाइन-1’ चलाया गया था. उस वक्त भारतीय सेना ने भारतीय क्षेत्र के अंदर अराकान(रोहिंग्या) कैंपों को नष्ट किया था.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW