आखिर सामने आ ही गया पंजाब के हिंदुओं का असल क़ातिल…. हिन्दू – सिख सम्बन्धो में आग लगा रहा था मलूक

पंजाब के लुधियाना में कुछ महीनो पहले RSS नेता की हत्या हो गयी थी और हत्या में जिस हथियार का इस्तेमाल किया गया था. हथियारों का तस्कर करने वाले

शख्स को गाजियाबाद पुलिस ने दिल्ली बार्डर से गिरफ्तार किया। पुलिस लंबे समय से इस हथियार तस्कर को खोज रही थी अब पुलिस की तलाश हुई समापत।

पुलिस ने जांच शुरू कर दी है कि तस्कर के तार किस किस से जुड़े हुए है।

बतादें कि पंजाब के लुधियाना में RSS नेता की हत्या के मामले में गाजियाबाद पुलिस ने एक अहम शख्स को गिरफ्तार किया है.

पकड़ा गया शख्स हथियारों का

तस्कर है. उसी ने संघ नेता की हत्या में इस्तेमाल किए गए हथियार सप्लाई किए थे.पकड़े गए शख्स का नाम मलूक है. गाजियाबाद पुलिस ने गुरुवार के दिन

मलूक को दिल्ली बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया. गाजियाबाद निवासी मलूक को पहले भी गिरफ्तार करने की कोशिश की गई थी. बीती 3 तारीख को एनआईए, यूपी

एटीएस और यूपी पुलिस ने मलूक को पकड़ने के लिए घेराव किया था तो पथराव और गोलीबारी हुई हुई थी.

जिसमें यूपी पुलिस का एक कांस्टेबल घायल हो गया

था।

आपको बताते है कि पुलिस ने मलूक को पकडने के लिए 3 दिसंबर को एनआईए के साथ छापेमारी की थी। जैसे की स्थानीय लोगो को इसकी सुचना मिली तो
 स्थानीय लोगो ने एनआईए और पुलिस की टीम पर हमला बोल दिया था. इस दौरान एक सिपाही को गोली लगी थी. जिसे आनन-फानन में मेरठ के अस्पताल में

भर्ती कराया गया था। हमले के दौरान स्थानीय लोगो ने एनआईए टीम और पुलिस की गाड़ियों में भी जमकर तोड़फोड़ की थी और इस बात का फायदा उठाकर

मकूल भागने में कामयाब हो गया।

इसी बीच एनआईए और 16 थानों की पुलिस फोर्स ने उस इलाके में मलूक को तलाश करने के लिए करीब 10 घंटे का

कॉन्बिंग ऑपरेशन चलाया था। लेकिन तब मलूक भाग चुका था और एनआईए और पुलिस उसे तलाश कर रही थी। गाजियाबाद पुलिस अधिकारी एसएसपी हरि

नारायण सिंह ने बताया कि काफी तलाश करने के बाद भोजपुर थाना पुलिस ने मलूक को गाजियाबाद और दिल्ली के सीमापुरी बॉर्डर से धरदबोचा। एनआईए और

पुलिस को यह जानकारी मिली की मलूक कई आपराधिक संगठनों को हथियार तस्कर करता था और अब उससे एनआईए की टीम और गाजियाबाद पुलिस गहन

पूछताछ कर रही है।

Share This Post

Leave a Reply