बिहार में चल रही थी मोदी को हराने की तैयारी.. उधर घुस रहे थे तो दुर्दांत बांग्लादेशी आतंकी

इधर बिहार में विपक्षी दल पीएम मोदी को हराने की तैयारी कर रहे थे, मोदी को दोबारा सत्ता में आने से रोकने की योजना बना रहे थे तो उधर दूसरी तरफ बिहार की राजधानी पटना में दो दुर्दांत बांग्लादेशी आतंकी घुसपैठ कर रहे थे. लेकिन बिहार ATS की सक्रियता ने इन आतंकियों के नापाक मंसूबों को कुचल दिया.  एटीएस ने सोमवार को पटना जंक्शन के पास स्थित मदनी मुसाफिरखाना के पास से दोनों आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार दोनों आतंकी जमीयत-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश और इस्लामिक स्टेट बांग्लादेश के सक्रिय सदस्य हैं.

भारतीयों के दिन की शानदार शुरुआत.. सेना ने सदा के लिए खामोश किया 3 दुर्दांत आतंकियों को, बाकी अन्य को घेरा

जानकारी के मुताबिक़, एटीएस ने गिरफ्तार खैरुल मंडल व अबु सुल्तान के पास से आईएसआईएस और अन्य आतंकवादी संगठनों के पोस्टर और पैम्पलेट की फोटो कॉपी के साथ-साथ तीन मोबाइल फोन, फर्जी पैन कार्ड, दो फर्जी भारतीय वोटर कार्ड और मेमोरी कार्ड बरामद किये हैं. साथ ही पुलवामा घटना के बाद जम्मू-कश्मीर में अर्धसैनिक बलों की प्रतिनियुक्ति से संबंधित आदेशों की फोटोकॉपी बरामद की है. साथ ही एटीएस को इनके पास से नई दिल्ली से हावड़ा और गया से पटना का ट्रेन टिकट तथा कोलकाता से गया का महारानी एक्सप्रेस का बस टिकट भी मिला है.

क्या है “बनात उल इस्लाम” . जिसका नारा है “पाकिस्तान में जाएंगे , वहां से बच्चे लाएंगे”

एटीएस से मिली जानकारी के मुताबिक, दोनों आतंकी भारत में रह कर बांग्लादेश संगठन जमीयत-उल-मुजाहिद्दीन के निर्देशानुसार कोलकाता, दिल्ली, केरल और बिहार के पटना व गया में घूम-घूम कर अपने संगठन से मुस्लिम युवकों को जोड़ने और बौद्ध धार्मिक स्थलों पर आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए रेकी का काम कर रहे थे. एटीएस के मुताबिक, दोनों युवक सीरिया जाकर आईएसआईएस के साथ मिल कर जिहाद में शामिल होना चाहते थे लेकिन इससे पहले इनका इरादा बिहार में तबाही मचाने का था.

28 मार्च- आज अमरता को प्राप्त हुए थे दो भाई नीलाम्बर- पीताम्बर अंग्रेजों से लड़ कर. क्यों छिपाया गया हमसे, हमारे ही इन पूर्वजों का गौरवशाली इतिहास ?

Share This Post