व्हाट्सएप्प ग्रुप का ही नाम रखा था “पाकिस्तान जिंदाबाद” .. उसमें लगभग सभी लोग भारत के थे.. बाकायदा कमेंट शेयर किये जाते थे- “मत मांगो देशभक्ति का सबूत”

सद्दाम कुरैशी ने हिंदुस्तान में जन्म लिया, हिंदुस्तान की माटी में पला बढ़ा, हिंदुस्तान का अन्ना खाया तथा हिंदुस्तान की हवा में सांस ली तथा उसको हिंदुस्तान की सरकार से मिलने वाली हर सुविधा भी मिली लेकिन इसके बाद भी सद्दाम के शरीर में हिन्दुस्तानी नहीं बल्कि पाकिस्तानी दिल धडकता था. यही कारण था कि उसने पाकिस्तान जिंदाबाद के नाम से व्हात्सप्प ग्रुप बनाया था. इस ग्रुप में सभी लोग भारत के ही थे लेकिन भारत की मूल भावना के खिलाफ तथा पाकिस्तान के समर्थन में पोस्ट करते थे.

मामला बिहार के पश्चिम चंपारण जिला मुख्यालय बेतिया का है जहाँ के नगर थाना क्षेत्र के तहत नाजनी चौक निवासी 22 वर्षीय सद्दाम कुरैशी को पुलिस ने कथित तौर पर ‘‘पाकिस्तान जिंदाबाद’’ नाम का भारत विरोधी व्हाट्सएप ग्रुप चलाने के आरोप में मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया. वह इस ग्रुप में धार्मिक भावना भड़काने के लिए अनाप-शनाप पोस्ट कर रहा था. बताया जाता है कि नगर पुलिस को सूचना मिली कि एक व्यक्ति अपने सेलफोन पर पाकिस्तान जिंदाबाद नाम से वॉट्सऐप ग्रुप बनाकर धार्मिक भावना भड़काने के लिए अनाप-शनाप पोस्ट कर रहा है.

इसकी सूचना पर थानाध्यक्ष ने सनहा दर्ज कर वरीय पदाधिकारी को इससे अवगत कराया. बाद में पुलिस की तकनीकी सेल की सहायता से ग्रुप एडमिन को ट्रेस किया गया. टावर लोकेशन के आधार पर संतघाट इलाके से उसकी गिरफ्तारी सुनिश्चित की गई. वॉट्सऐप ग्रुप पर उसने आपत्तिजनक कई पोस्ट भी डाले थे. एक पोस्ट में पाकिस्तान एवं भारत के झंडे के रंग से रंगा राष्ट्रीय प्रतीक चिह्न दो शेर का फोटो जिसमें एक शेर दूसरे शेर को दबोचा है, डाला था. मामले में पुलिस ने पाकिस्तान जिंदाबाद नाम से वॉट्सऐप ग्रुप बनाने, धार्मिक भावना भड़काने, देश की एकता अखंडता पर ठेस पहुंचाने के आरोप के तहत प्राथमिकी दर्ज कर करवाई शुरू कर दी है.

पुलिस अधीक्षक जयंतकांत ने बताया कि गिरफ्तार व्यक्ति का नाम सद्दाम कुरैशी है, जो इस व्हाट्सएप ग्रुप का एडमिन था. उन्होंने बताया कि जिस मोबाईल फोन से इस ग्रुप को सद्दाम संचालित कर रहा था, उस मोबाइल तथा सिम को जब्त कर लिया गया है. पुलिस अधीक्षक जयंतकांत ने बताया कि गिरफ्तार व्यक्ति का नाम सद्दाम कुरैशी है, जो इस व्हाट्सएप ग्रुप का एडमिन था. उन्होंने बताया कि जिस मोबाईल फोन से इस ग्रुप को सद्दाम संचालित कर रहा था, उसे जब्त कर लिया गया है

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW