#SudarshanConclave में पाक उच्चायुक्त अब्दुल बासित से पूछे गए ऐसे ज्वलंत सवाल, जिन्हें नहीं सुना होगा आपने

#SudarshanConclave के मंच पर गर्मा-गर्मी का माहौल उस वक्त बन गया जब पाक उच्चायुक्त अब्दुल बासित मंच पर पहुंचे। अब्दुल बासित के मंच पर पहुंचते ही सवालों और जवाबों को दौर शुरु हो गया है। बातचीत के दौरान मंच पर कुछ गर्मा-गर्मी भी हो गई। कभी कुलभूषण जाधव को लेकर, कभी आतंकवाद को लेकर, तो कभी भारतीय सेना के जवानों के साथ की गई बर्बरता को लेकर। एक साथ सवालों के बौछार से ऐसा लगा मानो जैसे मंच पर आग लग गई हो। कहीं-कहीं तो ऐसा हुआ कि अब्दुल बासित सुरेश चव्हाणके जी के सवालों से बचते नजर आए। वो बार-बार सवालों को टालते रहे या फिर न समझने का दिखावा करते रहे। बहस के दौरान अब्दुल बासित ने स्वीकार किया कि कुलभूषण जीवित है।

पाक उच्चायुक्त पूछे गए कुछ ऐसे ही खास सवाल :-

#SudarshanConclave में शामिल हुए पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित। इस दौरान अब्दुल बासित ने स्वीकार किया कि कुलभूषण जीवित है।

#SudarshanConclave में सुरेश चव्हाणके जी के एक भी सवाल का उत्तर नहीं दे सके अब्दुल बासित. जैसे कि – क्या आप को दुनिया में चीन का पिट्ठू बनते जा रहे हैं ?

#SudarshanConclave में अब्दुल बासित से सवाल हुआ कि हमारे उच्चयुक्त ने कभी बलूच या पख्तून को पार्टी नहीं दी तो आप ने कश्मीरी अलगाववादियों को कैसे निमन्त्रण दिया ?

#SudarshanConclave में एक सवाल के जवाब श्री सुरेश चव्हाणके जी ने अब्दुल बासित से कहा कि खुल कर बोलने की आज़ादी सिर्फ भारत में .. पाकिस्तान में हो जाता है कत्ल

#SudarshanConclave में अब्दुल बासित कोई जवाब नाह दे सके इस बात का कि कुलभूषण जाधव को उसके परिवार से क्यों नहीं मिलाया जाता ?

#SudarshanConclave में अब्दुल बासित से जब जनता ने पुछा कि पाकिस्तान के अन्दर बलूच और हिन्दू के साथ इतना अत्याचार क्यों है ? तो अब्दुल बासित ने साफ़ इंकार करते हुए सिर्फ इतना कहा कि ये गलत है…

#SudarshanConclave श्री सुरेश चव्हाणके जी ने पूछा कि कुलभूषण जाधव को क्या उसके परिवार से मिलने देंगे तो अब्दुल बासित ने कोई संतोष जनक उत्तर नहीं दिया…

#SudarshanConclave में श्री सुरेश चव्हाणके जी ने अब्दुल बासित से पूछा कि परवेज मुशर्रफ ओसामा का भक्त क्यों है ? तो वो बोले उन्हें नहीं पता.

#SudarshanConclave में अब्दुल बासित से हाफ़िज़ सईद का नाम लिया गया तो वो बगले झाँकने लगे… हाफ़िज़ पर खामोश अब्दुल बासित..

Share This Post