महिलाओं के खिलाफ अभद्रता के लिए कुख्यात आज़म खान का अब तीन तलाक पर नया बयान.. हवाला दिया कुरआन का

महिलाओं के खिलाफ अभद्रता तथा बेहद ही जहरीली सांप्रदायिक बयानों के लिए कुख्यात उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के सांसद आज़म खान ने तीन तलाक बिल पर सीधे संविधान को चुनौती दी है. लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषाण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए आजम खान ने तीन तलाक बिल पर बोलते हुए कहा कि यह हमारा व्‍यक्तिगत मामला है और इसमें कुरान से हटकर कोई बात स्‍वीकार नहीं की जायेगी.

7 साल की बच्ची से बलात्कार करके उसको बेरहमी से मार डाला इमरान ने.. राष्ट्र मांग रहा अबिलंब मृत्युदंड

आज़म खान ने कहा कि कोई एक तलाक मानता है, माने, कोई दो मानता है, माने. कोई तीन तलाक मानता है, माने. नहीं मानता है, मत माने. आजम खान ने कहा, यह मुसलमानों का व्‍यक्तिगत मामला है, इस पर कुरान जो फैसला देता है, उससे हटकर कोई बात नहीं माना जाएगा. आज़म खान आगे कहा कि इससे मुझे इस बात का भी अंदेशा है कि कही लोग शादी, निकाह और मंडप से डरने न लगें और शादी का रिवाज ही खत्म हो जाए और लिव-इन रिलेशन को ही लोग पसंद करने लगें.

हर तरफ प्रशंसा हो रही केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की, जिनके नेतृत्व में सूचना प्रसारण मंत्रालय हिंदी में लाएगा “गीत रामायण”

बता दें कि लोकसभा में बिल को पेश करते हुए कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इसकी जरूरत को बताते हुए कहा था, ’70 साल बाद क्या संसद को नहीं सोचना चाहिए कि 3 तलाक से पीड़ित महिलाएं सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी न्याय की गुहार लगा रही हैं तो क्या उन्हें न्याय नहीं मिलना चाहिए। 2017 से 543 केस तीन तलाक के आए, 239 तो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आए। अध्यादेश के बाद भी 31 मामले आए इसीलिए हमारी सरकार महिलाओं के सम्मान और गरिमा के साथ है।’

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post