बाबा रामदेव के निष्कलंक जीवन पर लिख रही ये लेखिका विवादित किताब.. एक बार फिर सर उठा रहे नकली कलमकार


अरुंधति रॉय को पहचानते ही होंगे। देश के खिलाफ बयानों से चर्चा रहने वाली। लेखकों का आजकल का अजेंडा हो गया इतिहास के साथ खिलवाड़ करे और चर्चित हो जाए। बाबा रामदेव बड़ा नाम है और अगर कोई उसपर कीचड़ उठाता है तो लगे हाथ उसका भी परमोशन हो जाता है। इतिहास से छेड़ छाड़ कर उसको तोड़ मरोड़ कर पेस करना आजकल का एजेंडा हो गया है।

एक अंग्रेजी पत्रकार प्रियंका पाठक नारायण ने एक किताब लिखी है जिसका नाम है ‘गॉडमैन टू टाइकून: द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ बाबा रामदेव’। किताब की बिक्री पर रोक लगने के बाद प्रियंका ने कहा कि जिस तरह धीरूभाई अम्बानी के कारनामों पर लिखी किताब ‘द पोलियस्टर प्रिंस’ देश के बुक स्टाल्स से गायब करवा दी गई थी उसी तरह मुझे लगता है की ये किताब भी बुक स्टाल्स से गायब करवा दी जाएगी। प्रियंका का कहना है कि इस किताब के जरिए उन्होंने बाबा रामदेव के कई रहस्यों को उजागर किया है।
प्रियंका का कहना है कि बाबा रामदेव के गुरु रहे 77 वर्षीय गुरु शंकर देव एक दिन सुबह सैर करते हुए अचनाक कही गायब हो गए। गुरु शंकर देव ने ही बाबा रामदेव को हरिद्वार में अपना दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट व अरबों की सम्पति दान की थी। जब शंकर देव गायब हुए तब रामदेव विदेश यात्रा पर थे लेकिन इतनी बड़ी घटना घट जाने के बाद भी रामदेव विदेश से दो महीने बाद भारत आए थे। राजीव दीक्षित के मामले में भी बोला। बिना किसी सबूत के बस चिंगारी जलाना सस्ती लोकप्रियता हासिल करना ही एजेंडा इनका। 

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...