Breaking News:

पुलवामा हमले में बलिदान रतन ठाकुर के पिता का बयान सुन रो पड़ा हिंदुस्तान.. बोले- दूसरे बेटे को भी सीमा पर बलिदान कर दूंगा लेकिन पाकिस्तान को सबक सिखाओ

मैं अपना एक बेटा खो चुका हूं, दूसरे को भी मातृभूमि की खातिर मर-मिटने के लिए भेजूंगा लेकिन पाकिस्तान को करारा जवाब मिलना चाहिए. ये शब्द उस पिता के हैं जिसका बेटा कल कश्मीर में जैश ए मोहम्मद के आतंकी हमले में शहीद हो चुका है. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए हैं. ये सभी जवान देश के अलग-अलग कोने से सैन्य बल में शामिल होकर देश की सेवा कर रहे थे. कोई अपने परिवार से दो दिन पहले मिलकर वापस गया था तो कोई उस वक्त अपनी पत्नी से फोन पर ही बात करके परिवार से मिलने की इच्छा जता रहा था कि अचानक तेज धमाका हुआ और सब कुछ खत्म.

जवानों की शहादत के बाद पूरा देश रो रहा है तथा आक्रोशित है लेकिन ज़रा महसूस कीजिये कि उन परिवारों पर क्या बीत रही होगी, जिनके चिराग इस आतंकी हमले में बुझ गये. जिन परिवारों ने अपने बेटों को खोया है उन्हें गर्व तो है कि उनके बेटे ने देश के लिए कुर्बानी दे दी लेकिन साथ ही गुस्सा भी है. उनका ये गुस्सा उस देश के लिए है जिसने नफरत के नाम पर आतंक के बीज बोए और जवानों पर कायरता पूर्ण हमला कर दिया क्योंकि उसकी इतनी हिम्मत नहीं थी कि वह सामने आकर हमारे जवानों का मुकाबला कर पाता.

पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों में से बिहार के भागलपुर के रतन ठाकुर भी शामिल थे. शहीद रतन ठाकुर के पिता को जब अपने बेटे की शहादत की खबर मिली तो वह बेसुध हो गए. इसके बाद होश संभालते हुए उन्होंने जो कहा उसे सुन आपका सर उनके क़दमों में नतमस्तक हो जाएगा. शहीद रतन सिंह के पिता ने कहा कि मैं देश की मातृभूमि की सेवा में एक बेटा खो चुका हूं. मैं अपने दूसरे बेटे को भी मातृभूमि की खातिर लड़ने और कुर्बान होने को तैयार रहने के लिए भेजूंगा लेकिन पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब मिलना चाहिए.

 

Share This Post