भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने बताई भारत में सिर्फ बांग्लादेशी घुसपैठियों की इतनी संख्या जितनी नहीं होती किसी जिले की आबादी

भारतीय जनता पार्टी के पश्चिम बंगाल प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने देश में बांग्लादेशी घुसपैठियों के बारे में  बड़ाबयान दिया है. मजहबी उन्मादी संक्रमण का दंश झेल रहे भारत में बांग्लादेशी घुसपैठियों के बारे में बात करते हुए दिलीप घोष ने कहा है कि बांग्लादेश से देश में दो करोड़ घुसपैठिये घुसे हैं. इनमें से एक करोड़ से अधिक घुसपैठिये पश्चिम बंगाल में हैं. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उन्हें बचा रही हैं.

भाजपा कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि देश का विभाजन हिंदू-मुस्लिम के आधार पर हुआ था. दिलीप घोष ने कहा कि इसके बावजूद ये घुसपैठिये देश में ‍घुसे हैं और दिल्ली से लेकर जम्मू-कश्मीर और आंध्र प्रदेश तक चले गये हैं. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राजनीति के लिए, वोटबैंक के लिए रोहिंग्या का समर्थन कर रही हैं और उन्हें आश्रय दे रही हैं. इसी कारण वह एनआरसी का विरोध कर रही हैं.

यह पूछे जाने पर कि ममता एनआरसी का विरोध कर रही हैं, दिलीप घोष ने कहा कि ममता बनर्जी ने नोटबंदी का विरोध किया था. जीएसटी का विरोध किया था. धारा 370 और 35 ए हटाये जाने का विरोध किया था. तीन तालाक विधेयक लाने का विरोध किया था. इसके बावजूद ये सभी लागू हुए और ममता बनर्जी के विरोध के बावजूद पश्चिम बंगाल में एनआरसी लागू होगा तथा ममता के मंत्री, जो एनआरसी का समर्थन कर रहे हैं. उनका भी हिसाब लेंगे.

दिलीप घोष ने कहा कि एनआरसी हिंदुओं को भयभीत होने की जरूरत नहीं हैं. सिटिजंस बिल के माध्यम से बांग्लादेशी शरणार्थियों को भी नागरिकता दी जायेगी. एनआरसी के नाम पर बंगाल में अशांति पैदा करने के ममता बनर्जी के आरोप पर टिप्पणी करते हुए श्री घोष ने कहा कि बंगाल में एक माह में भाजपा के 25 कार्यकर्ता मारे गये हैं. जिला-जिला में बम और बंदूक का कारखाना चल रहा है. प्रत्येक दिन कहीं न कहीं हिंसा हो रही है. बंगाल के हालात जम्मू कश्मीर से भी बदतर है.  उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में राज्य में बीजेपी की सरकार बनेगी तथा राज्य की जनता को टीएमसी के कुशासन से मुक्ति मिलेगी.

Share This Post