Breaking News:

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को चुनौती दे रहे ममता की पार्टी के इदरीश अली और सिद्दिकुल्ला चौधरी, फिर भी वो बोली – बंगाल में लोकतंत्र कायम है


कांग्रेस अपने सांप्रदायिक प्रेम में इतना मसगुल हो जाता है ये तक भूल जाता है की इस्लाम महिलाओं को समान अधिकार नहीं देता। इस्लाम शरीयत को मानता

है और शरीयत कहता तीन तलाक़ जायज है। जिस दिन तीन तलाक़ पर कोर्ट ने रोक लगाई उस दिन बहुत से बरसाती मजहबी ठेकेदार इस्लाम की शरीयत की

निगेबानी में खड़े हो गए।

ये किसी भी कानून के दख़लंदाजी को शरीयत में पसंद नहीं करते।

Image Title

पर शरीयत महिलाओ बेड़ियों में बांधना पसंद करता है और ये उसी शरीयत को मानते है अंधे

होकर। तीन तलाक़ के मुद्दे अब कांग्रेस के भारतीय कानून के खिलाफ बड़बोलापन सांमने आया है। तृणमूल कांग्रेस के दो नेता सांसद इदरीश अली और मंत्री

सिद्दिकुल्ला चौधरी ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की खुलेआम निंदा करते हुए इस मामले में याचिकाकर्ता इशरत जहां के खिलाफ खुलेआम अभद्र भाषा का प्रयोग किया।

इशरत जहां ने अपने वकील नाजिया इलाही खान के मार्फत पत्र देकर मुख्यमंत्री से जान माल की हिफाजत की गुहार लगायी थी।

इशरत के पत्र को गंभीरता से

लेते हुए मुख्यमंत्री ने इन दोनों नेताओं के खिलाफ पार्टी को कारण बताओ नोटिस जारी करने का आदेश दिया। मुख्यमंत्री सख्ती दिखते हुए इन लोगों के इस

गैरजिम्मेदाराना बयान के लिए पार्टी कार्रवाई क्यों नहीं करें, इसका जवाब दें। कांग्रेस के ये दोनों नेता खुलेआम इशरत जहाँ को धमका रहे है। कांग्रेस केवल मुस्लिम

धुर्वीकरण की राजनीति करती है। उसे मुस्लिम महिलाओ दिक्कते नहीं दिखती। 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share