संजय दत्त की मौज मस्ती रास नहीं आयी न्यायालय को. महाराष्ट्र सरकार से पूछा किस आधार पर कराई जा रही है मौज मस्ती

बॉलीवुड एक्टर संजय दत्त जेल से आने के बाद जहां एक ओर लगातार फिल्में साइन कर रहे हैं। वहीं एक बार फिर वो दुबारा से मुश्किलों में फसते नज़र आ रहे है। बॉम्बे हाईकोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से संजय दत्त को जल्द रिहा करने पर सवाल किए हैं। सोमवार को कोर्ट ने पूछा कि सरकार को अपने इस फैसले पर सफाई देनी होगी कि संजय को आठ महीने पहले जेल से कैसे रिहा किया गया जबकि वो ज्यादातर समय पैरोल पर रहे थे।
कोर्ट ने कहा, ‘सरकार ने संजय को रिहा करने पर उनके अच्छे व्यवहार का हवाला दिया था लेकिन वो आधे समय तक पैरोल पर बाहर थे। इस मामले पर जस्टिस सावंत ने पूछा, ‘क्या सरकार ने डीआईजी, जेल से सलाह ली थी या जेल निरिक्षक ने सीधा अपनी सिफारिश राज्यपाल को सौंप दी थी।’
बता दें कि संजय को 1993 के सीरियल ब्लास्ट केस में पांच साल कैद की सजा सुनाई गई थी। उनके अच्छे व्यवहार को देखते हुए पुणे की यरवदा जेल से तय समय से आठ महीने पहले ही फरवरी 2016 में जमानत दे दी गई थी। इस मामले की सुनवाई अब एक हफ्ते बाद की जाएगी।​
Share This Post

Leave a Reply