आज़म खान के बाद अब लगा उनकी बीबी का नंबर.. योगीराज में हो रहा न्याय


कभी महिलाओं के प्रति अपनी बदजुबानी तो कभी जहरीली सांप्रदायिक बयानबाजी के लिए कुख्यात उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के सांसद आज़म खान की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं. आज़म खान पर योगी सरकार का हंटर इस तरीके से चल रहा है कि एक-एक कर आज़म खान के तमाम काले कारनामे सामने आते जा रहे हैं. रामपुर प्रशासन जहाँ आज़म खान को भूमाफिया घोषित कर ही चुका है तो वहीं आज़म खान को जल्द ही हिस्ट्रीशीटर भी घोषित किया जा सकता है.

आजम खान की मुश्किलों में उस समय और इजाफा हुआ जब उनकी बीबी के खिलाफ भी आपराधिक मामला दर्ज कर लिया गया. ज्ञात हो कि आजम खान के ऊपर जमीन कब्जाने को लेकर पहले से ही कई मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं, तो वहीं अब उनकी पत्नी और बेटे के खिलाफ भी यूपी सरकार ने एक्शन लिया है. साथ ही वक्फ बोर्ड के अधिकारियों समेत नौ लोगों पर केस दर्ज कर किया गया है. इसके साथ ही शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्षों को भी आरोपी बनाया गया है. इन सभी पर शत्रु संपत्ति को वक्फ संपत्ति बताकर और हड़पने का आरोप है.

राजधानी के ठाकुरगंज थाना इलाके के हुसैनवाड़ी नारायण गार्डेन निवासी अल्लामा जमीर नकवी ने डीजीपी से शिकायत की थी कि, रामपुर में शत्रु संपत्ति को वक्फ की संपत्ति में तब्दील कर जमीन हड़पी गई है. इसकी जांच की गई तो मामला सही पाया गया. इस पर सोमवार को सांसद आजम खान, उनकी पत्नी तजीन फातिमा, बेटे अब्दुल्ला, शिया सेंट्रल बोर्ड के अध्यक्ष सैय्यद वसीम रिजवी, मजहर अली खां, सैय्यद गुलामुस सैय्यदैन, रहमत हुसैन जैदी, मुतबल्ली मसूद खां और सुन्नी सेंट्रल बोर्ड के अध्यक्ष जुफर फारुखी पर धारा 420, 467, 468, 471, 447, 409, 201, 120 बी और सार्वजनिक संपत्ति नुकसान निवारण अधिनियम 1984 की धारा तीन के तहत मामला दर्ज किया गया है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...