सुदर्शन न्यूज की खबर का असर, जेएनयू प्रशासन ने दिए कैंपस से देशविरोधी पोस्टर हटाने के आदेश

नई दिल्ली : जहां एक ओर डीयू में विवादित गुरमेहर का मुद्दा गरमाया हुआ है तो वही जेएनयू में एक बार फिर कश्मीर की आजादी के पोस्टर लगे हुए हैं। ऐसा ही एक पोस्टर देखने में आया है जिसमें अफजलगुरु की फोटो बनी है और उस पर लिखा है FREEDOM OF KASHMIR..। जेएनयू में लगे ये विवादित पोस्टर एक बार फिर बड़ा विवाद खड़ा कर सकते हैं।

पोस्टर में कश्मीर की तुलना फिलस्तीन से की गई है, जिसमें कश्मीर की आजादी की बात कही गई है। वहीं, दिल्ली पुलिस का कहना है कि पोस्टर को लेकर जेएनयू प्रशासन से कोई शिकायत नहीं मिली है, शिकायत मिलने के बाद ही वे कार्रवाई करेंगे। इस पोस्टर में लेफ़्ट के छात्र संगठन डीएसयू यानी डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स यूनियन का नाम अंकित है।

वहीं, जेएनयू प्रशासन ने कैंपस में लगाए गए विवादास्पद पोस्टरों को हटाने का आदेश दिया। विश्वविद्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विश्वविद्यालय का कीमती वक्त और उर्जा ऐसे बेकार के विवादों में बर्बाद होता है। दुर्भाग्य से लोगों का एक छोटा समूह अब भी हंगामे का माहौल बनाना चाह रहा है और शैक्षणिक माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहा है।

लेकिन बड़ा सवाल ये खड़ा होता है कि ये पोस्टर दोबारा जेएनयू में कैसे आए। इसको लाने वाला सरगना कौन है। जेएनयू की सुरक्षा व्यवस्था किसके हवाले है। आखिर इन राष्ट्रविरोधी लोगों और तत्वों पर कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है। सवाल ये भी खड़ा हो रहा है कि क्या जेएनयू प्रशासन को ये पोस्टर हटाने नहीं चाहिए? और जेएनयू की तरफ से ये तस्वीरें क्यों नहीं हटाई गईं।

Share This Post