“सेना हथियार नीचे रखे , तभी देंगे कश्मीर मुद्दे पर सरकार का साथ” – कांग्रेस

कांग्रेस राष्ट्रवाद और देशभक्ति का कितना पक्षधर है इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कश्मीर में हमारी सरकार और सेना आतंकवाद,पत्थरबाज और  अलगाववाद का सामना बम , बंदूख और कई सारे हथियारों से कर रही है पर कांग्रेस इसका हल शांतिपूर्ण चाहता है। आय दिन कश्मीर में आतंकी हमले होते है साथ में सेना पर पत्थर बरसाए जाते है इसके बावजूद आखिर समय समय पर ऐसे बेतुके बयान देकर कांग्रेस देश को क्यों शर्मसार करती है यह समझ से परे है। 

बताते चले की कांग्रेस नेता गुलाब नबी आजाद ने संवाददाताओं से कहा है  कि सरकार ने कश्मीर में बातचीत के सभी दरवाजे बंद कर दिए हैं जिससे राजनीतिक घुटन की स्थिति बनी है। बंदूर से कश्मीर में तनाव का समाधान नहीं निकाला जा सकता है. अगर सरकार सोचती है कि कश्मीर में तनाव समाप्त करने का एकमात्र रास्ता बंदूक है तब हम उनके साथ नहीं हैं. राज्यसभा में विपक्ष के नेता ने कहा कि पहले जब भी कश्मीर का मुद्दा उठा, उसमें पाकिस्तान के बारे में चर्चा हुई।  लेकिन अब हम चीन के बारे में पढ़ और सुन रहे हैं। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सिक्किम सेक्टर में भूटान के पास चीन के साथ जारी गतिरोध के विषय पर भी चर्चा होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि वे राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर सरकार के साथ हैं लेकिन आतंरिक एवं बाह्य सुरक्षा के कुछ संवेदनशील मुद्दे हैं और इन पर सत्र के दौरान चर्चा किये जाने की जरूरत है। विपक्षी नेताओं ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े विषयों के अलावा विपक्ष मध्य प्रदेश में किसानों से जुड़े मुद्दे, जीएसटी से प्रभावित कपड़ा उद्योग एवं कर्मचारियों की समस्या, असम में बाढ़ की स्थिति जैसे मुद्दों पर भी चर्चा करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को चर्चा के लिये आगे आना चाहिए और विपक्ष की बात को सुनना चाहिए।  आजाद ने कहा कि वे संसद की कार्यवाही में बाधा डालने के पक्ष में नहीं हैं लेकिन सरकार जब उनकी वाजिब मांग पर ध्यान नहीं देती है, तब वे इसके लिये मजबूर हो जाते हैं। 

Share This Post