Breaking News:

यू पी, दिल्ली , गोवा, मणिपुर में हार से नहीं बल्कि फ्रांस और कोरिया में जीत से मगन हैं दिग्विजय सिंह.

चुनाव हुए हैं फ्रांस और दक्षिण कोरिया में और वहाँ उदारवादी पार्टी के उम्मीदवारो ने जीत दर्ज की है . भारत में लगातर हर प्रदेश में हो रही हार के बाद अचानक दक्षिण कोरिया और फ्रांस की जीत से दिग्विजय फूले नहीं समा रहे हैं . दोनों स्थानों में इन उदारवादियों की जीत के बाद कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने विश्वास जताते हुए ब्यान दिया है की भारत के उदारवादियों के “अच्छे दिन” आने वाले है . सिंह ने सबसे एकजुट हो कर दक्षिणपंथी और सांप्रदायिक ताकतों के विरुद्ध लड़ने का आग्रह किया जबकि एक बार भी ये नहीं बताया की साध्वी प्रज्ञा , कर्नल पुरोहित  के साथ हुई क्रूरता किस प्रकार से उदारवाद की श्रेणी में आती है ?

ट्विटर पर अपने बेहद विवाहित बयानों के लिए बेहद विख्यात दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया –  “भारत में सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने चाहत रखने वाले सभी उदारवादियों को आपसी मदभेद भूलाकर और अपने निजी स्वार्थ को त्याग कर एक साथ आना चाहिए|”कांग्रेस पार्टी विपक्षी दलों को साथ लाकर, भाजपा का विजयरथ रोकने के लिए सयुंक्त मोर्चा बनाने की रणनीति पर काम कर रही है . इस प्रयास की शुरुआत और परीक्षण बेहद महत्वपूर्ण राष्ट्रपति चुनावों से शुरू होने वाली है . 

भारत में हर प्रदेश और जनाधार गंवाती जा रही कांग्रेस पार्टी का फ्रांस और कोरिया के चुनावों के परिणामो से इस तरह खुश होना अप्रत्याशित और अचम्भित करने वाला है फिर भी दिग्विजय सिंह का ट्वीट चर्चा में बना हुआ है ..  

Share This Post