चिदम्बरम के बाद अब शहाबुद्दीन के साथी लालू यादव के २२ ठिकानो पर छापेमारी . अथाह बेनामी सम्पत्ति का आरोप

हर दिन खुद को सेकुलर और तमाम को साम्प्रदायिक बताने वाले लालू यादव को सरकार ने आईना दिखाया है . अपने हास्य भाषणों से कभी लोगों को हंसा कर तो कभी धर्मनिरपेक्षता की प्रतिमूर्ति बन कर आये दिन सत्ता पर वार करने व् अपने तमाम मामलों को उन्ही बयानों में दबाने में सफल रहने वाले लालू के साथ अब सरकार ने कोई भी रियायत ना बरतने का फैसला किया है . 

सबसे पहले शहाबुद्दीन माफिया से रिश्ते , फिर चारा घोटाला में सुर्पीम कोर्ट का हथोड़ा चलने के बाद अब लालू यादव पर बेनामी सम्पत्ति मामले की गाज गिरी है ..आज आयकर विभाग ने लालू यादव के लगभग २२ ठिकानों पर जबरदस्त छापेमारी की है जहाँ से तमाम प्रमाण और कागजात बरामद किये गए हैं . अभी तक छापेमारी जारी है , ज्यादा छापेमारी दिल्ली और उसके आस पास के क्षेत्रों में की गयी है जिसका पूरा विवरण अभी आना बाकी है … 

सूत्रों के अनुसार आयकर विभाग ने लालू प्रसाद की 1000 करोड़ रुपए के बेनामी भूमि सौदों के आरोपों के बाद दिल्ली एवं गुड़गांव में 22 स्थानों पर छापे मारे हैं और उन सभी स्थानों का विधिवत निरिक्षण किया है.. विदित हो की बिहार के भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने लालू प्रसाद यादव के खिलाफ बहुत पहले से ही मोर्चा खोल रखा है जिसमे उन पर तरफ तरफ के आरोप लगाए गए हैं .

लालू पर आरोप है की उन्होंने चुनाव आयोग को अपनी पूरी सम्पत्ति का ब्योरा नहीं दिया है और अपने अभिलेखों में इसे छिपा कर बताया हैं . इसके अलावा उन्होंने चुनाव आयोग से अपने अन्य व्यवसाय अदि की भी जानकारी छिपाई है .  सुशील मोदी ने ये भी आरोप लगाया था की सिर्फ लालू ही नहीं बल्कि उनके बेटों के भी पास अथाह बेनामी सम्पत्ति है जिसमे उनकी बेटी का नाम भी आया था . सुशील मोदी ने इस मामले में केंद्रीय एजेंसियों से जांच की मांग की थी जिसे शायद स्वीकार करते हुए ये कार्यवाही की गयी है.. अभी लालू यादव कुछ दिन पहले माफिया शहाबुद्दीन से जेल में निर्देश लेते पाए गए थे ..

Share This Post