चेतन ने साबित किया कि वो सच में “चीता” है . बयान सुन कर सल्यूट करेंगे आप

9 गोली लगने के बाद भी गोलिलयां बरसाना जारी रखा था तब तक उस महावीर ने जब तक कश्मीर में खून बहा रहे विधर्मियों का खून बह कर कश्मीर की मिटटी में नहीं मिल गया . उस जवान की बहादुरी की गाथा के प्रमाण उसके नाम में मिलते हैं क्योंकि उसे सब चेतन के साथ चीता लगा कर सम्बोधित करते हैं . पहले आतंकियों से जंग हुई तो उन्हें परास्त किया , फिर दिल्ली के अस्पताल में मौत से जंग लड़ी और मौत को भी हरा दिया . 

अभी ठीक से स्वस्थ भी नहीं हुए थे चेतन चीता जी . उनके लिए पूरे भारत में हर राष्ट्रभक्त ने दुआएं मांगी थी . अचानक ही दिया एक बयान जिसे भारत का हर स्वाभिमानी राष्ट्रभक्त सल्यूट करेगा और CRPF का मनोबल अचानक ही आसमान को छू देगा . चेतन चीता ने अपने हर घाव , हर दर्द को भूलते हुए कहा कि- ” मेरे साथियों को मेरी जरूरत है , कश्मीर के हालात ठीक नहीं हैं, मुझे फिर भेजो कश्मीर . मैं फिर जाना चाहता हूँ आतंकियों से लड़ने ” .

एक वो जवान जो अभी माह भर पहले ही मौत को मात दे कर उठा हो , उसके मुँह से ऐसे शब्द निकलना ये दर्शाता है कि भारत भूमि वीरो की भूमि है जिस पर कोई दुश्मन आँख उठा कर देखेगा तो उसका अंजाम बुरा होगा . चेतन चीता के इस साहस, अपार राष्ट्रप्रेम , कर्तव्यपरायणता , निष्ठां को सुदर्शन न्यूज का बारम्बार प्रणाम . 

Share This Post