Breaking News:

वो पैदा भारत की मिटटी में हुए. कुछ ईराक भागे तो कुछ नेपाल . मन में एक सपना ले कर कि उन्हें “भारत से जंग लडनी है”

जिस मिटटी में जन्म लिया , जिन गलियों में खेले, जहाँ का दूध, हवा पानी सब प्रयोग किया अचानक ही उसी से नफरत हो गयी और वहां निकल पड़े जहाँ से उनका कभी कोई वास्ता नहीं था . वास्ता दो दूर उस जगह को वो ठीक से जानते भी नहीं थे .

इराक और अफगानिस्तान में भारत से भाग कर आतंक फैलाने के मकसद से गए तमाम आतंकियों के नाम बारी बारी से सार्वजनिक होने के बाद अब नया खुलासा उन 25 लोगों के बारे में हुआ है जो नेपाल गए थे इंडियन मुजाहिदीन के सरगना यासीन भटकल से मिलने . मिलने का उद्देश्य कोई अन्य बात नहीं बल्कि सीधे सीधे आतंक की फसल बोना था जिसमे वो सफल रहते अगर ख़ुफ़िया एजेंसियां सतर्क ना होती तो .

क्राइम ब्रांच के अनुसार जब सन 2010 में आतंकी यासीन भटकल नेपाल में छुप कर अपनी आतंकी गतिविधियां चला रहा था तब उस से उसके गुप्त ठिकाने पर मिलने 25 लोग गए थे जो उसके साथ आतंक की पौध तैयार कर रहे थे . इन सब आतंक समर्थकों ने भारत की  सीमा को पार करने के लिए बिहार के रक्सौल बार्डर को चुना था . पूछताछ में भटकल ने बताया किउसने फरारी काल में ही हदीदी के साथ मिल कर 25 आतंकियों का नेटवर्क खड़ा कर लिया था . 

क्राइम ब्रांच के मुताबिक इन सबको इंडियन मुजाहिद्दीन के पाकिस्तान में भागे आतंकियों से भी परिचित करवाया गया था जिसमे रियाज़ और इकबाल भटकल के नाम प्रमुख हैं . पुलिस भटकल के पूरे आतंकी नेटवर्क को खंगाल कर खत्म करने पर लगी है . 

Share This Post