लोकतंत्र का मजाक उड़ रहा ममता शासित बंगाल में. CBI की टीम को पुलिस ने लिया हिरासत में

ये भारत के इतिहास की शायद पहली ही घटना हो जब केन्द्रीय जांच एजेंसी के खिलाफ इस प्रकार से किसी राज्य की पुलिस ने दुस्साहस दिखाया हो . पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राज्य में पुलिस ने दिखा दिया वो रूप जो किसी भी रूप में बागी कहा जा सकता है और अन्य राज्य ही नहीं बल्कि केंद्र से भी बगावत कही जा सकती है. कोलकाता पुलिस ने तमाम नियम और कानून को ताख पर रखते हुए CBI को ही ले लिया हिरासत में .

ज्ञात हो कि हिन्दू त्योहारों पर प्रतिबन्ध लगा कर , ताबड़तोड़ हिन्दू नेताओं की हत्या आदि के बाद रोहिंग्या और बंगलादेशियो को शरण देने वाले पश्चिम बंगाल सरकार ने इस से पहले भी वहां पर सेना की मौजूदगी को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया था. ममता बनर्जी ने बंगाल में होने वाले सेना के रूटीन कार्य तक को भी लोकतंत्र पर आघात बताते हुए फ़ौरन ही सेना को वहां से बुलाने की मांग की थी .. लेकिन अब जो कुछ भी हुआ वो और भी भयावाह है .

पश्चिम बंगाल में कोलकाता के पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार के घर पहुंची सीबीआई टीम को पुलिस ने हिरासत में लिया है। पुलिस सीबीआई टीम को थाने ले गई है। आज ही ममता बनर्जी शासित पश्चिम बंगाल की पुलिस ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के हेलीकॉप्टर को उतरने नहीं दिया था . कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार बहुचर्चित शारदा चिटफंड घोटाले के आरोपी हैं जिनके घर पहुचे CBI के 5 अफसरों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है . ये पूरी प्रक्रिया संवैधानिक मूल्यों का मजाक उड़ाने जैसी है लेकिन ममता बनर्जी को किसी भी रूप में कोई फर्क पड़ता नहीं दिख रहा है .

Share This Post