अब अखिलेश नहीं रहेंगे Z सुरक्षा में.. केंद्र ने लिया बड़ा फैसला

लोकसभा चुनाव में कारी हार के बाद झटके पर झटके झेल रहे समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव को अब बड़ा झटका दिया है केंद्र की मोदी सरकार ने. जानकारी मिली है कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की जेड प्लस सुरक्षा वापस लेने का सरकार ने मन बना लिया है. यानि ब्लैक कैट कमांडो का दस्ता अब अखिलेश यादव की सुरक्षा में नहीं रहेगा. सूत्रों के मुताबिक इस बारे में आदेश पर दस्तखत हो चुके हैं और एनएसजी को सूचित किया जाएगा.

सैलून चलाने वाले इखलाख खान ने बड़े शान से फेसबुक पर खुद को लिखा “जैश-ए-मोहम्मद” का सदस्य.. जबकि उसे इलाके के हिन्दू मानते थे सेक्यूलर

इसमें सबसे बड़ी बात ये है कि केंद्र अखिलेश यादव की तो Z प्लस सुरक्षा वापस ले रहा है लेकिन उनके पिता तथा समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव तथा बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती की Z प्लस सुरक्षा बरकरार रहेगी. लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबंधन की हार के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सुरक्षा में ये कटौती देखने को मिली है. हालिया लोकसभा चुनाव में हार के बाद समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन भी टूट गया था. इसके लिए मायावती ने अखिलेश यादव को जिम्मेदार ठहराया था कि वह सपा के वोट विशेषकर यादवों के वोट बसपा को ट्रांसफर नहीं करवा सके थी.

जो पार्टी सोनभद्र पर मचा रही थी सबसे ज्यादा शोर, हत्यारा निकला उसी का कार्यकर्ता

सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हाल ही में सीआरपीएफ के तहत सुरक्षा प्राप्त वीआईपी लोगों की सुरक्षा की व्यापक समीक्षा की. इसके बाद एसपी अध्यक्ष को उपलब्ध करवाया गया विशिष्ट राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) कवर वापस लेने का फैसला किया गया. अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि अखिलेश को दूसरी केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी की सेवा मुहैया करवाई जाएगी या उनका केंद्रीय सुरक्षा कवच पूरा हटा लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक कम से कम दो दर्जन अन्य वीआईपी लोगों की सुरक्षा या तो वापस ली जाएगी या घटाई जाएगी.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post