सुदर्शन न्यूज़ ने लगातार दिखाया था हाजी इकबाल का काला कारनामा.. अब उसके पेंच कास दिए क़ानून ने


सहारनपुर का कुख्यात तथा बहुजन समाज पार्टी का पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल, जिसके काले कारनामों के खिलाफ सुदर्शन ने एक लंबी मुहिम चलाई थी. अब वह हाजी इकबाल क़ानून के शिकंजे में आ गया है. हाजी इकबाल के काले कारनामों पर कानून का डंडा चलना शुरू हो गया है तथा हाजी इकबाल की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. ज्ञात हो कि सुदर्शन लंबे समय से खनन माफिया उन्मादी के काले कारनामों का कच्चा चिट्ठा खोलता रहा है.

खबर के मुताबिक़, सहारनपुर में क्राइम ब्रांच ने पूर्व बसपा एमएलसी हाजी मोहम्मद इकबाल सहित तीन के खिलाफ धोखाधड़ी, कूटरचित दस्तावेज तैयार कर पार्टनर के फर्जी हस्ताक्षर कर खाता खोलने और नोटबंदी के दौरान उसमें नकदी जमा व ट्रांसफर करने के मामले में चार्जशीट लगा दी है. बता दें कि मीरपुर गंदेवड़ निवासी विश्वास कुमार ने 10 मार्च 2018 को जनकपुरी थाने पर मामला दर्ज कराया था. इसमें रविंद्र कुमार निवासी कांसेपुर बेहट, पूर्व एमएलसी मोहम्मद इकबाल निवासी मिर्जापुर, सौरभ मुकुंद निवासी सहारनपुर, विनोद कुमार निवासी सहारनपुर और बैंक शाखा के अधिकारी/ कर्मचारी को नामजद किया गया था.

विश्वास यमुना एग्रो सोल्यूशन फर्म में पार्टनर थे. फर्म के नाम पर 2013 में 5.3 हेक्टेयर कृषि भूमि खरीदी गई थी. इसके बाद फर्म ने कोई कार्य नहीं किया गया. विश्वास का कहना था कि आरोपियों ने धोखाधड़ी और कूटरचित हस्ताक्षर करके 13 मई 2015 को फर्म के नाम से पंजाब नेशनल बैंक में खोला, जिसमें बड़ी मात्रा में रुपयों का लेन देन किया गया.
इस चालू खाते का इस्तेमाल सौरभ मुकुंद और विनोद ने पूर्व एमएलसी मोहम्मद इकबाल की कंपनियों व फर्मों में रुपये हस्तांतरित करने के लिए किया. अब इसकी विवेचना कर रही क्राइम ब्रांच ने मोहम्मद इकबाल, विनोद और सौरभ मुकुंद के खिलाफ चार्जशीट भेज दी है. सीओ क्राइम रजनीश उपाध्याय का कहना है कि तीन आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट भेज दी है.

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...