Breaking News:

जिस राफेल को मोदी के खिलाफ बनाया गया था बदनामी का सबसे बड़ा हथियार उसी राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट में बेदाग साबित हुई मोदी सरकार

राफेल का सबसे ज्यादा शोर पिछले कुछ दिनों से विपक्ष द्वारा मचाया गया था .. इसकी सबसे ज्यादा चर्चा करने वालों में विपक्ष के नेता और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम सबसे आगे रहा है .. छत्तीसगढ़, राजस्थान, मध्यप्रदेश मिज़ोरम में सबसे ज्यादा इसका शोर मचाया गया था .. हालात ऐसे बनाये गए की संसद तक हल्ला मचाया गया और सबसे ज्यादा नुकसान इस मुद्दे पर हुआ कि खुद फ्रांस तक को इस मामले में सफाई देनी पड़ी थी जिस से आतंक के खिलाफ भारत के यूरोपीय देशों के साथ आने के आह्वान में जुड़ रहे फ्रांस से रिश्तों पर बहुत बुरा असर पड़ा था..

लेकिन आखिरकार राहुल गांधी के नेतृत्व में हल्ला मचाने वाले विपक्ष को तब चुप होना पड़ा जब सुप्रीम कोर्ट ने एक सुप्रीम फैसले में उन तमाम अटकलों को खारिज कर दिया जो पिछले कुछ समय से चर्चा का केंद्र बनी थी..ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट ने एक अतिमहत्वपूर्ण व अतिप्रतीक्षित फैसला देते हुए मोदी सरकार को राफेल की डील में क्लीन चिट देते हुए सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है.. सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील में चल रही तमाम अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा है कि इसमें ऐसा कुछ भी नही पाया गया है जिस पर आपत्ति दर्ज करने योग्य प्रमाण सामने आए हों .

इस फैसले के साथ ही भाजपाईयों के चेहरे खिल गए हैं लेकिन आरोपो की बौछार करने वालों ने अभी तक इस मुद्दे पर अपना कोई भी वक्तव्य जारी नही किया है ..हालात ये रहे कि अभी हाल में ही बीते कई राज्यो के विधानसभा चुनावों पर भी राफेल मुद्दे पर उठे सवालों का असर दिखा और उसने मोदी सरकार को व्यापक नुकसान पहुचाया जिसकी भरपाई करना खुद भाजपा के लिए बेहद मुश्किल हो रहा है .. यद्द्पि इस विवाद से भारत की छवि विदेश में भी प्रभावित हुई है और कोई अन्य देश अब किसी रक्षा डील को भारत से करार करने से पहले इन विवादों पर गौर जरूर करेगा ..

Share This Post