Breaking News:

भारत देखेगा मोहम्मद मुश्ताक को फांसी पर झूलते..उस 6 साल की बच्ची की आत्मा को भी मिलेगी शांति

वो 21 फरवरी 2018 का दिन था जब ओड़िशा के कटक जिले में सालेपुर थानाक्षेत्र के जगन्नाथपुर गांव में एक वर्षीय नाबालिग मासूम के साथ मुश्ताक ने हैवानियत तथा क्रूरता की सारी हदें पार कर दी थीं. मुश्ताक ने मासूम के साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दिया था, फिर बच्ची की क्रूरतम ह्त्या कर दी थी. दिल दहला देने वाली इस वारदात के बाद पूरा देश आक्रोशित हो उठा था. देशभर से एक सुर में दरिन्दे मुश्ताक के लिए फांसी की सजा की मांग की, जिसमें अब न्यायालय ने अपना फैसला सुनाया है.

खबर के मुताबिक़, ओडिशा के कटक की एक अदालत ने 6 वर्षीय मासूम बच्ची से रेप करने और उसकी हत्या कर देने के अपराध में दरिन्दे मुश्ताक को फांसी की सजा सुनाई है. विशेष सरकारी वकील एके नायक ने बताया कि अतिरिक्त जिला एवं विशेष पोस्को अदालत की न्यायाधीश वंदना कार ने मोहम्मद मुश्ताक को धारा 302 (हत्या) और भादंसं की अन्य धाराओं तथा बाल यौन अपराध संरक्षण अधिनियम की धारा छह के तहत दोषी ठहराने के बाद उसे मृत्युदण्ड की सजा का एलान कर दिया.

बता दें कि 21 अप्रैल 2018 अपने भाई के साथ खेल रही छह साल की बच्ची को मोहम्मद मुश्ताक चाकलेट खिलाने का प्रलोभन देकर अपने साथ पास के स्कूल में ले गया और वहां बरामदे में उससे दुष्कर्म किया. रेप के बाद मुस्ताक ने बच्ची के चेहरे, सर और छाती समेत प्राइवेट पार्ट पर कई वार किए और उसका गला दबा दिया था. बच्ची के चिल्लाने पर मुश्ताक ने उसका सर दीवार पर पटक दिया था. इस दौरान उसने बच्ची के प्राइवेट पार्ट को गंभीर रूप से छतिग्रस्त कर दिया था. उसके बाद बच्ची का अस्पताल में इलाज चला लेकिन 8 दिन बाद बच्ची की मौत हो गई थी. मुश्ताक को पुलिस ने घटना के 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया था.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW