घर के झगड़ो से ले कर, बस की सीट और गली मोहल्ले के सभी मामले जोड़े जाने लगे गौ रक्षा से.. जम्मू पुलिस ने बेनकाब किया फरेबी हमीद को

धीरे धीरे पर्दा उठ रहा उस साजिश से और ये भी सामने आने लगा है कि कौन है इस सभी मामले का कर्ताधर्ता .. अपने व्यक्तिगत मामलों को भी अब जोड़ा जाने लगा है गौ रक्षा से जिसमे निशाने पर है हिन्दू समाज और निशाना लगाने वाले वही जिन्होंने कभी रचा था असहिष्णुता का झूठा ढोंग . जम्मू पुलिस की सजगता से बेनकाब हुआ एक ऐसा मामला जिसमे वृद्ध होने के बाद भी एक व्यक्ति को समाज में नफरत फैलाने की शौक थी और उसने दूसरे मामले को भी जोड़ दिया है गौ रक्षा के मामले से और खुद को पीड़ित दिखा कर मामले को सनसनीखेज बनाने की करने लगा कुत्सित कोशिश .

विदित हो कि गौ हत्यारे को भी महिमामंडित करने की मुहिम चलने के बाद जिस प्रकार से राजस्‍थान के अलवर में कथित गौरक्षकों ने रकबर नामक युवक की पीट-पीटकर हत्‍या कर दी गयी उसके बाद अब अपने व्यक्तिगत मामलो को भी जोड़ा जाने लगा गौ रक्षा से . इसी क्रम में रविवार को जम्मू के रामबन जिले के मगरकोट में 60 साल के हमीद शेख ने अपने व्यक्तिगत झगड़े को भी जोड़ दिया गौ रक्षको से और पूरी सोची समझी साजिश से देने लगा बयान . 

यद्दपि उसके इस झूठ को पुलिस ने फ़ौरन पकड लिया और बताया कि मामला गौ रक्षा या मोब लिंचिंग आदि से किसी भी हालत में नहीं जुड़ा है तब जा कर इस मामले का सच सामने आया वरना तथाकथित सेकुलर समाज और स्वरचित बुद्धिजीवी इस मामले को भी तूल देने के लिए तैयार बैठे थे . आपसी झगड़े में घायल हमीद शेख को अस्पताल में भर्ती किया गया. यहां प्राथमिक उपचार के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि हमीद की हालत अब ठीक है. वहीं स्थानीय पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. रामबन के एसएसपी मोहन लाल का कहना है कि पुलिस घटना की वजहों की जांच कर रही है.  जम्मू-कश्मीर पुलिस के प्रवक्ता ने इस घटना को आपसी मारपीट की घटना बताते हुए कहा है कि मामले को गोरक्षा से जोड़कर देखना सही नहीं है. पुलिस की तरफ से आम जन को अफवाहों से दूर रहने को कहा गया.

Share This Post

Leave a Reply