राष्ट्रीय संस्कृति पर हर तऱफ से वार. समलिंगी विवाह की समर्थक कांग्रेस की जीत क्योंकि देश मे खुला पहला समलैंगिक मैरिज ब्यूरो

मेरे अनुसार कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है जिसकी नीतियों में हमेशा से मौलिकता की कमी रही है और जो हमेशा से विदेशी सरकारों की नकल करती रही है. जब कांग्रेस सत्ता में थी तब इसकी सरकारों के मंत्री सरकार चलाने के गुर सीखने के लिए अक्सर विदेश जाते रहे हैं और फिर वापस आकर उन विदेशी नीतियों को बिना थोड़ा-सा दिमाग खर्च किए लागू करने लगते हैं जबकि भारत की स्थितियाँ अमेरिका-यूरोप से साफ इतर होती हैं लेकिन कांग्रेस की ये परंपरा बन गयी थी कि जो पाश्चात्य सभ्यता में चल रहा है वही भारत में हो तथा इससे भारतीय सभ्यता/संस्कृति को नष्ट किया जा सके.

अब जब कांग्रेस देश की सत्ता से जा चुकी है तथा कुछ ही राज्यों में उसकी सरकार है, लेकिन केंद्र में अपनी सरकार के दौरान कांग्रेस ने भारतीय सभ्यता को नष्ट करने के जो प्रयास किये थे उसका असर सामने आ रहा है. गौरतलब है कि अब देश में पहला समलैंगिक मैरिज ब्यूरो खोला गया है. गुजरात की रहने वाली उर्वी शाह ने अहमदाबाद में समलैंगिकों की शादी कराने के लिए एक मेट्रोमोनियल मैरिज ब्यूरो का शुभारंभ किया है. उर्वी शाह का कहना है कि उनका लक्ष्य देश में समलैंगिक शादियों को बढ़ावा देना है. उन्होंने कहा कि वह पिछले काफी वर्षों से इस पर काम कर रही थी लेकिन अब वह इसको अंजाम तक पहुंचाना चाहती हैं. उन्होंने देश के युवाओं से अपील भी की है कि वह समलैंगिक शादी को बढ़ावा दें तथा उनके मैरिज ब्यूरो के माध्यम से शादी करें.

गौरतलब है कि मनमोहन सरकार के दौरान सर्वोच्च न्यायालय ने समलैंगिकता को सामाजिक अपराध कहा था उस समय कांग्रेस पार्टी ने एलान किया था कि वह समलैंगिगता का समर्थन करती है तथा इसके लिए वह कानून भी लाएगी. लेकिन भाजपा के प्रबल विरोध के कारण कांग्रेस उस समय ये कानून नहीं ला सकी थी लेकिन कांग्रेस जे समलैंगिकता को बढ़ावा देने का जो काम किया था उसका असर अब दिखाई दे रहा है जब उर्वी शाह ने समलैंगिक मैरिज ब्यूरो खोला है. निश्चय ही इसके माध्यम से भारतीय सभ्यता पर चोट पहुंचेगी. अब देश की राष्ट्रवादी जनता केंद्र सरकार से निवेदन करती है कि वह इसके खिलाफ कोई पहल कर ताकि भारतीयता नष्ट होने से बच सके.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW