भारत की सैकड़ों लड़कियों को अरब के शेखों के हाथ बेच चुका है मुंबई का मोहम्मद सैदुल.. चरमपंथ अपने चरम पर

मुंबई पुलिस को मजहबी चरमपंथी मोहम्मद सैदुल की तलाश काफी समय से थी लेकिन वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पा रहा था. हिंदुस्तान में लगातार बढ़ते जा रहे मजहबी चरमपंथ के बीच मुहम्मद सैदुल ने भारत में मानव तस्करी का जाल फैला रखा था जिसके तहत वह भारत की कई लडकियों को अरब के शेखों के हाथों बेच चुका था, इसके साथ ही वह हिंदुस्तान में भी मानव तस्करी कर रहा था. खुलासा हुआ है कि मुहम्मद सैदुल बांग्लादेशी लडकियों की भी तस्करी करता था. काफी समय से पुलिस की आँखों में धूल झोंक रहा कट्टरपंथी मुहम्मद सैदुल आखिरकार पुलिस के शिकंजे में आ ही गया तथा पालघर क्राइम ब्रांच की वसई यूनिट ने मुहम्मद सैदुल को गिरफ्तार कर लोया.

बताया गया है कि मुहम्मद सैदुल पिछले आठ वर्षों में नौकरी दिलाने के नाम पर बांग्लादेश से सैकड़ों लड़कियोंं को भारत लाकर देह व्यापार के दलदल में झोंक चुका है तथा कई भारतीय लडकियों को अरब के शेखों को बेच चुका है. उम्र के हिसाब से लड़कियों का सौदा करने वाले मुहम्मद सैदुल पर पालघर में तीन व मुंबई-पुणे में दो-दो पीटा एक्ट के तहत मामले दर्ज हैं. इससे पूर्व पुलिस उसके 7 साथियों को गिरफ्तार कर चुकी है. फिलहाल पुलिस अनेक धाराओं के तहत मामला दर्ज कर पूछताछ कर रही है. पालघर क्राइम ब्रांच के वसई यूनिट के पुलिस निरीक्षक जितेंद्र वनकोटी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी मोहमद सैदुल मुस्लिम शेख (38) पिछले आठ सालों से फरार चल रहा था. उस पर पालघर में तीन व मुंबई-पुणे में दो-दो पीटा एक्ट के तहत मामले दर्ज हैं. वनकोटी ने बताया कि शेख बांग्लादेश का रहने वाला है. वह बांग्लादेश से गरीब नाबालिग लड़कियों व महिलाओं को मुंबई में नौकरी दिलाने के बहाने यहां लाता था और उन्हें दलाल के माध्यम से देह व्यापार के व्यवसाय में बेच देता था. वह नाबालिग लड़कियों की उम्र के हिसाब से 1 लाख से लेकर डेढ़ लाख रुपये में व महिलाओं को 30 हजार से 40 हजार रुपए में बेच देता था. बेचने के बाद आधी रकम यहां से हवाला के जरिए भारत- बांग्लादेश सीमा पर दलालों के माध्यम से पीडि़त लड़कियों व महिलाओं के परिवार को पहुंचा देता था.

इससे पूर्व पुलिस उसके 7 साथियों को गिरफ्तार कर चुकी है. जबकि 8 आरोपी अब भी फरार है. पुलिस धारा 370अ, 376, 328, 341, 323, 504, 506 पीटा एक्ट, 4,5 के तहत मामला दर्ज कर जांच कर रही है. बताया गया है कि यह काम वह पिछले 2010 से कर रहा था. पुलिस सूत्रों के अनुसार शेख ने सैकड़ों महिलाओं को भारत के अलग-अलग राज्यों में देह व्यापार के लिए बेचा है. इनमें ज्यादातर नाबालिग लड़कियां हैं. सैदुल शेख डोम्बिवली इलाके में रहकर बिल्डिंगों में मजदूरी का काम कर रहा था. हर चार महीनें बाद वह बांग्लादेश जाकर लड़कियों व महिलाओं को भारत लाता था. शेख ने फर्जी कागजात के जरिये अपना भारतीय आधार कार्ड व पैनकार्ड भी बनवा लिया था. वनकोटी ने बताया कि सैदुल शेख से और भी कई खुलासे होने की संभावना है.

Share This Post