जानिये कितना रुपया खर्च करना पड़ा एक बांग्लादेशी को पक्का भारतीय बनने के लिए लेकिन फिर भी पकड़ा गया

भारत में अवैध रूप से होता बांग्लादेशी घुसपैठियों का संक्रमण लगातार देश को तबाह करता जा रहा है. आये दिन देश के विभिन्न हिस्सों से बांग्लादेशी घुसपैठियों के गिरफ्तार होने की खबरें आती रहती हैं लेकिन जितना बड़ा खतरा ये बांग्लादेशी घुसपैठिये हैं, उससे कहीं ज्यादा बड़ा खतरा देश के अंदर छिपे बैठे वो गद्दार हैं जो इन घुसपैठियों को भारत आने में मदद करते हैं, उनके लिए फर्जी कागजात बनवाते हैं ताकि ये घुसपैठिये भारतभूमि को पावन संक्रमित करें, हिंदुस्तान को जिहादी कट्टरपंथ की आग में झोंक सकें.

अभी तक आपने पैसे देकर फर्जी तरीके से वोटर कार्ड, राशन कार्ड आदि बनवाने के मामले सुने होंगे लेकिन अब बांग्लादेशी नागरिकों का फर्जी तरीके से भारतीय पासपोर्ट बनवाने का मामला सामने आया है. देश की राजधानी दिल्ली के IGI एयरपोर्ट पर पकड़े गए एक बांग्लादेशी ने पूछताछ में उसने भारतीय बनाने के इस कारनामे का खुलासा किया है. उसका दावा है कि चार लाख टका (करीब 3.38 लाख रुपये) लेकर उसका भारतीय पासपोर्ट बनवा दिया गया, वह भी असली. इसमें आश्चर्य की बात ये है कि विदेशियों के भारतीय पासपोर्ट बनवाने में बांग्लादेश के ही गैंग सक्रिय हैं जिनकी मद्दद देश के अंदर बैठे देश के ही गद्दार कर रहे हैं. पुलिस सूत्रों के अनुसार, फर्जी पासपोर्ट बनाए जाने के मामले तो अकसर सामने आते हैं, लेकिन वैध भारतीय पासपोर्ट के बेहद कम मामले ही सामने आए हैं.

आपको बता दें कि अवैध रूप से मुंबई में रह रहे अफसर शेख नाम के बांग्लादेशी दलाल ने IGI में पकड़े गए शख्स का भारतीय पासपोर्ट बनवाया था, यही नहीं, उसने भारत से सऊदी अरब जाने का इंतजाम भी कर दिया था. बदले में बांग्लादेशी को चार लाख बांग्लादेशी टका देने पड़े. इस पासपोर्ट से वह बांग्लादेशी शख्स मुंबई से सऊदी अरब पहुंच भी गया लेकिन मामला खुलने पर उसे भारत डिपोर्ट किया गया. आईजीआई पर उतरने के बाद भारतीय खुफिया एजेंसियों ने पूछताछ की, तो पता चला कि कुछ बांग्लादेशी गिरोह किस तरह अवैध तरीके से वैध भारतीय पासपोर्ट बनवा रहे हैं. फर्जी पासपोर्ट बनाने का मामला सामने आने के बाद सुरक्षा एजेंसिया एक्टिव हो गयी हैं तथा सघनता से उन लोगों पर नजर है जो फर्जी तरीके से पासपोर्ट आदि बनवाने के काम में जुटे हैं.

Share This Post