CRPF देख हार्ट अटैक से ही मर गया ये मोस्ट वांटेड नक्सली जिस पर सरकार ने रखा था बहुत बड़ा इनाम

नक्सली जो आये दिन झारखण्ड, छत्तीसगढ़ व अन्य कई राज्यों में हिंसा फैलाते रहते हैं. माना जाता है कि इन्हें कुछ माओवादी नेताओं का संरक्षण मिला होता है. अभी कुछ दिनों पहले ही छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने सेना के 9 जवानों की ह्त्या कर दी थी. लेकिन अब खबर मिली है कि भाकपा माओवादी के पोलित ब्यूरो सदस्य और सबसे खूंखार नक्सली नेता 53 वर्षीय शुमार देव कुमार सिंह उर्फ अरविंद की मौत हो चुकी है. अरविन्द एक बहुत खूंखार नक्सली माना जाता था जिसकी 9 राज्यों की पुलिस को तलाश थी तथा अरविन्द पर 1 करोड़ रूपये का इनाम घोषित किया हुआ था.

गौरतलब है अरविन्द ने झारखंड और छत्तीसगढ़ की सीमा पर स्थित बूढ़ा पहाड़ पर अपना ठिकाना बनाया हुआ था. करीब 2 हजार के करीब सुरक्षा के जवान इसको घेरने के लिए बूढा पहाड़ पर काफी समय से डेरा डाले हुए थे लेकिन अरविन्द पकड़ में नहीं आ रहा था. पुलिस के सूत्रों ने बताया है कि बुधवार को अरविन्द की हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गयी. बताया गया है कि बुधवार को बूढा पहाड़ पर इस नक्सली को CRPF के जवानों तथा पुलिस ने घेर लिया था जिससे अरविन्द काफी भयभीत हो गया व हार्ट अटैक आ गया जिसके कारण उसके प्राण निकल गये. सुरक्षा प्रतिष्ठान से जुड़े आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि  अरविंदजी ऊर्फ देव कुमार सिंह ऊर्फ निशांत की छत्तीसगढ़ की सीमा से लगने वाले झारखंड के बूढ़ा पहाड़ के जंगलों में सुरक्षा बालों के घेराव के दौरान दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गयी.

गौरतलब है कि अरविंद पढ़ा-लिखा और तकनीकी विशेषज्ञ था. सुरक्षा बलों पर हुए कई हमलों के पीछे उसका शातिर दिमाग था. बताया जाता है कि इस चर्चित नक्सली कमांडर के नेतृत्व या दिशा-निर्देश में पुलिस बलों पर 50 से अधिक हमले किये गये. आंध्रप्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, बिहार और झारखंड में भाकपा माओवादी संगठन के लिए काम कर चुके नक्सली अरविंद को नौ राज्यों की पुलिस तलाश कर रही थी. वर्ष 2011 से वह झारखंड के लातेहार, गुमला, लोहरदगा और गढ़वा इलाके में सक्रिय था और पुलिस के लिए गंभीर चुनौती बन गया था. बाद में सुधाकरण और कुछ अन्य नक्सलियों के इस क्षेत्र में आने से अरविंदजी की ताकत कई गुना बढ़ गयी थी. इतने शक्तिशाली अरविन्द को जब सुरक्षा बालों के जवानों ने घेर लिया तो वह उनका सामना तक न कर पाया और हार्ट अटैक आने से मर गया.

Share This Post

Leave a Reply