जहाँ हुए थे परमाणु परीक्षण वहां से गिरफ्तार हुआ एक जासूस…आखिर कौन है वो जो भारत को कर रहा था खोखला


हिन्दुस्तान को जितना खतरा बाहरी आतंकियों से है उसे ज्यादा खतरा हिंदुस्तान के अंदर बैठे घर के भेदियों से है. देश के अन्दर ऐसे देशविरोधी तत्त्व मौजूद हैं जो हिन्दुस्तान में रहते हैं, हिन्दुस्तान का खाते हैं तथा हिंदुस्तान के साथ ही गद्दारी करते हैं. ये लोग किसी न किसी माध्यम से देश के दुश्मनों के साथ मिलकर अपने ही देश के खिलाफ साजिशें रचते रहते हैं फिर भी ये उम्मीद करते हैं कि इनको सम्मान दिया जाये इनकी राष्ट्रभक्ति पर शक न किया जाये.

अब खबर मिली है कि राजस्थान के पोखरण से सुरक्षा एजेंसियों ने एक संदिग्ध जासूस को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार हुए संदिग्ध जासूस का नाम मोहम्मद शहीद गिलानी बताया जा रहा है. बताया गया है किमोहम्मद शहीद गिलानी की संदिग्ध गतिविधियों को देखते हुए सुरक्षा एजेंसियों ने पकड़ लिया तथा उससे पूछताछ की जा रही है. खुफिया एजेंसियों को अंदेशा है कि मोहम्मद शहीद गिलानी का संबंध पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईऐसआई से है. राजस्थान में भारत-पाकिस्तान सीमा पर आए दिन आईएसआई के जासूस पकड़े जाते रहे हैं.

ज्ञात हो कि इसी साल गणतंत्र दिवस से पहले पोखरण से ही दो सऊदी अरब के नागरिकों को गिरफ्तार किया गया था. सुरक्षा एजेंसियों, मिल्ट्री इंटेलिजेंस और पुलिस ने एक संयुक्त अभियान में उन्हें गिरफ्तार किया. उनके पास से सेटेलाइट थुरिया फोन भी बरामद हुआ था. इन संदिग्धों की पहचान सऊदी अरब के अल सभान तलाल मोहमद और अल समरा मौजिद अब्दुल के तौर पर हुई थी. इनके साथ 1 अन्य संदिग्ध भी पकड़ा गया था, जो कि हैदराबाद का निवासी बताया गया. इनके पास से एक सेटेलाइट थुरिया फोन और 10 सामान्य फोन भी मिले थे. इससे वे आपस में बात किया करते थे तथा देश के खिलाफ जानकारिय बाहर भेजते थे.

गणतंत्र दिवस से पहले इनकी गिरफ्तारी से सुरक्षा एजेंसियां और चौकन्ना हो गई हैं. मोहम्मद शहीद की गिरफ्तारी मिल्ट्री इंटीलेजस व पुलिस की यह बहुत बड़ी कामयाबी मानी जा रही है. क़्योंकि जैसलमेर जिला पाकिस्तान की सीमा से सटा हुआ है और यहां पर सेटेलाइट फोन के प्रयोग पर प्रतिबंध लगा है. पिछले काफी समय से पाकिस्तान लगातार भारत में जासूसी का नेटवर्क बढाता जा रहा है. पिछले एक साल में सरहदी इलाकों में 20 से ज्यादा जासूस पकड़े गए हैं. पुलिस का कहना है मोहम्मद शहीद से पूंछताछ जारी है लेकिन ये जासूस ही है. बाकी सारी जानकारी पून्छ्ताच के बाद ही पता लगेगी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share