रोहिंग्या, बंगलादेशी, पाकिस्तानियों के बाद अब दिल्ली – NCR ( गाजियाबाद ) से अवैध अफगानिस्तानी गिरफ्तार. बनवा रखा था आधार और पैन कार्ड

पिछले कुछ समय से भारत में जहाँ अवैध घुसपैठियों का मुद्दा राजनीतिक गलियारों में सबसे ज्यादा चर्चा का विषय रहा था वहीँ उस पर सक्रियता के चलते NRC अदि विषय भी सामने आये और कुछ घुसपैठियों की पहिचान भी हुई थी . उसके चलते ही जिला शासन और प्रशासन अपने अपने क्षेत्रों में अवैध घुसपैठियों पर कड़ी नजर भी रखने लगे थे और उसी सक्रियता के चलते ही दिल्ली – NCR क्षेत्र में पड़ने वाले गाजियाबाद के साहिबाबाद इलाके से एक अवैध अफगानिस्तानी ओमर गिरफ्तार हुआ है .. रोहिंग्या, बंगलादेशी और पाकिस्तानियों की गिरफ्तारी के बाद अब अफगानिस्तानी का पकड़ा जाना किसी को भी हैरान कर देने के लिए काफी है . 

गिरफ्तार हुए अफगानी का नाम है ओमर जो अफगानिस्तान से अवैध रूप से भारत में रह रहा था . बताया जा रहा है की अवैध अफगानी ओमर सन २०१३ से भारत में है और इस दौरान उसने भारत के वो तमाम जरूरी कागजात बनवा डाले थे जो किसी को भी भारतीय नागरिक साबित करने के लिए पर्याप्त है. इन कागजातों में आधार कार्ड और पैन कार्ड जैसे अतिअवाश्य्क प्रमाण भी हैं . गिरफ्तार हुआ ओमर गाजियाबाद के साहिबाबाद इलाके में स्थाई रूप से रहने भी लगा था .. बताया ये भी जा रहा है की ओमर इसके अलावा हिमाचल प्रदेश आदि की भी यात्रा कर चुका है .. इस अफगानी ने दिल्ली और गुरुग्राम के २ बड़े अस्पतालों में काम भी किया और इसके मकान मालिक ने इनका सत्यापन भी नही करवाया. इसलिए कहना गलत नहीं होगा की प्रशासन से अधिक वो लोग जिम्मेदार हैं जिन्होंने कुछ पैसों के लालच में सुरक्षा को प्राथमिकता नहीं दी . 

गिरफ्तार ओमर से पूछताछ चल रही है और इसके पास से आधार कार्ड , पैन कार्ड , खून से लिखा हुआ एक लेटर और मोबाईल आदि बरामद किया है .. खून से लिखे लेटर किस के लिए प्रेषित थे इसका खुलासा फिलहाल नहीं किया गया है . पुलिस के अलावा LIU व् अन्य ख़ुफ़िया एजेंसियां अफगानी से पूछताछ कर रही हैं . अब इस मामले में पुलिस मकान मालिक व् उन सभी को अपनी जांच के दायरे में लेने वाली है जो इसके आधार और पैन कार्ड आदि बनवाने में शामिल रहे हैं . इतना ही नहीं , ओमेर ने इतने कम समय में अच्छी हिंदी सीख ली है और वो इस्लामिक बातें भी अरबी भाषा में एक दार्शनिक अंदाज़ में करता है . फिलहाल ये एक संदेश है जिसको चेतावनी के रूप में भी लिया जा सकता है और आम जनता से सतर्कता की भी आशा की जा रही है इस प्रकार के अन्य कुछ और अवैध निवासियों के विरुद्ध प्रशासन के अभियान में . 

Share This Post

Leave a Reply