नेपाल मार्ग से आया था पाकिस्तान का वो क्रूर जेहादी.. उसको रहना खाना उपलब्द करवाया यहीं के एक गद्दार ने


पाकिस्तान भारत को नुक्सान पहुचाने के लिए सोते जागते ख्वाब देखता है. जिसके लिए वह आतंकी संगठन बनाता है, भारत में हमले करवाता है, और संयुक्त राष्ट्र में भारत को ही आतंक का गड बताता है. यही नहीं झूठी तस्वीर दिखा कर भारत को बदनाम करने की कोशिश भी करता है. लेकिन उसके सभी हथकंडे नाकाम होजाते है. जिसके बाद अब पाकिस्तान ने अपना जासूस भेजा है. जिसकी मदद भारत में रहने वाला मज़हबी कर रहा था.

जिस तरह कश्मीर में आतंकी कश्मीरी के यहाँ पनाह लेकर रहते है औए खुद कश्मीरी भी उन्हें पनाह देते है ठीक उसी तरह उस पाकिस्तान नागरिक जिसे जासूस माना जा रहा है उसे एक सुल्तानपुर कस्बे में रहनेवाला हिस्ट्रीशीटर ने पनाह दी थी. दरअसल एक पाकिस्तानी नागरिक नेपाल के रास्ते अवैध तरीके से भारत में दाखिल हो गया। उसके पास न कोई पासपोर्ट था और न ही वीजा। वह दिल्ली पहुंचा, वहां से अजमेर गया और फिर कोटा जिले के सुल्तानपुर कस्बे में एक हिस्ट्रीशीटर ने उसको पनाह दी। हिस्ट्रीशीटर का फूफा पाकिस्तान में रहता है।
इंटैलीजैंस एजैंसियों की सक्रियता से वह उसी दिन ट्रेस हो गया, जिस दिन सुल्तानपुर आकर रुका। विस्तृत पूछताछ के बाद इंटैलीजैंस ने उसे सुल्तानपुर पुलिस के हवाले कर दिया। पाकिस्तानी नागरिक उसे पनाह देने वाले हिस्ट्रीशीटर के खिलाफ सुल्तानपुर थाने में पासपोर्ट अधिनियम फॉरेन एक्ट में प्रकरण दर्ज कराया गया है। आरोपी के जासूसी की आशंका से भारत में घुसने में भी इंकार नहीं किया जा रहा। सूत्रों ने बताया कि कराची का रहने वाला अब्दुल हनीफ काठमांडू से भारत आया। 6 नवंबर को वह सुल्तानपुर में हिस्ट्रीशीटर खालिक हुसैन के यहां गया। जिस तरह का माहौल पाकिस्तान और भारत के बीच है उसमे हनीफ का नेपाल के रास्ते से भारत में घुसना सुरक्षा खुफिया एजैंसियों के लिए भी गंभीर मुद्दा है। 

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share