सरकार का कहर गिरा उस पासपोर्ट अधिकारी पर जिसने संदेह के चलते उस मुस्लिम युवक से कुछ सवाल कर लिया जिसने शादी की थी हिन्दू लड़की से.. तबाह होने जा रहा विकास मिश्रा का जीवन

कितना आसान है किसी अधिकारी के खिलाफ कोई कार्यवाही करना इसको देखना है तो लखनऊ के पासपोर्ट कार्यालय में देखा जा सकता है जहाँ एक पारस्पोर्ट अधिकारी को तत्काल ट्रांसफर कर दिया गया है और उसके साथ ही उस पर बिठा दी गयी है जांच जिसके खिलाफ अनस सिद्दीकी ने कर डाली एक बेहद अजीब शिकायत. बिना अधिकारी का पक्ष देखे और जाने उस पर इस प्रकार की कार्यवाही सवाल खड़े करती है की क्या मात्र एक आरोप काफी हैं किसी अधिकारी पर कार्यवाही करने के लिए . 

ज्ञात हो की मामला लखनऊ का है जहाँ लखनऊ पासपोर्ट ऑफिस में आरोप लगाया गया कि विकास मिश्रा नाम के पासपोर्ट अधीक्षक ने  हिंदू-मुस्लिम दंपति का पासपोर्ट आवेदन खारिज कर दिया केवल इसलिए क्योकि वो हिन्दू लड़की का मुस्लिम लड़के से निकाह करने से नाराज था . पासपोर्ट अधिकारी पर आरोप लगाया गया कि उसने अनस सिद्दीकी से कहा कि अगर वो अपना पासपोर्ट बनवाना चाहता है तो उसकी बीबी मुसलमान नहीं बनेगी बल्कि उसको हिन्दू बनना होगा .. इस मामले में बिना पर्याप्त प्रमाण के ही अनस सिद्दीकी की शिकायत पर इस पूरे मामले में कार्रवाई कर डाली गयी है और पासपोर्ट विभाग ने आरोपी अधिकारी के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया है. इस मामले में धर्मनिरपेक्ष मीडिया ने भी अपनी सक्रियता दिखाई और आनन् फानन में अनस सिद्दीकी के पक्ष में अधिकारी विकास मिश्रा के खिलाफ मोर्चा खोल डाला .. 

इसी के साथ ही तत्काल उच्चाधिकारियों द्वारा हस्तक्षेप करवा कर अनस सिद्दीकी और उनकी बीबी तन्वी को पासपोर्ट जारी कर दिया गया है.

मामला बुधवार का है जब लखनऊ के रतन स्क्वायर स्थित पासपोर्ट सेवा केंद्र पर तन्वी सेठ नाम की एक महिला अपने पति और बेटी के साथ पासपोर्ट बनवाने के लिए पहुंची थी. जहां पासपोर्ट अधीक्षक विकास मिश्र तन्वी सेठ से उनकी शादी को लेकर जरूरी सवाल पूछना शुरु कर दिया.

ध्यान देने योग्य है कि हिन्दू लड़की तन्वी ने एक मुस्लिम युवक अनस सिद्दीकी से निकाह किया था .. साथ ही तन्वी ने शादी के बाद अपना सरनेम नहीं बदला था. इस पर पासपोर्ट अधीक्षक विकास मिश्र ने संतुष्टि के लिए आवश्यक सवाल किया जिसको अनस सद्दीकी ने अपनी मज़हबी भावनाओ आदि पर ले लिया और अधिकारी विकास मिश्रा को फंसाने के लिए शुरू कर दिया उन पर आरोप लगाना .. अनस सिद्दीकी ने कहा कि पासपोर्ट अधिकारी ने साफ़ साफ़ कहा कि तुम हिन्दू बन जाओ तभी पासपोर्ट जारी होगा जबकि इस से पहले अधिकारी विकास मिश्रा के पास ऐसे तमाम मामले आये थे जिसमे किसी और ने ऐसी कोई शिकायत नहीं की थी .  धर्मनिरपेक्ष स्वाभाव की तन्वी ने अपने शौहर का पूरा साथ देते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट कर डाला जिसके बाद अधिकारी विकास मिश्रा का तबादला करते हुए तन्वी सेठ और अनस सिद्दीकी को पासपोर्ट जारी कर दिया गया.

Share This Post