Breaking News:

लखनऊ गवाह बन रहा लव जिहाद की शिकार “ईसाई” महिला का संघर्ष जिसने जमीन सुंघा दी है शौहर “महबूब” को

महबूब हैदर ने सोचा कि इसको मुसलमान भी बना चुका हूँ, इसकी अस्मत और दौलत दोनो लूट चुका हूँ, अब कर भी क्या सकती है ये ? चलो किसी और को नया शिकार बनाया जाय.. लेकिन वो तो महबूब से भी कहीं आगे निकली और किया है ऐसा पलटवार कि अब पनाह मांग रहा है लव जिहाद का मोहरा महबूब ..घटना का गवाह है लखनऊ शहर ..

विदित हो कि पहली बार किसी मुस्लिम पर एक बीबी होते हुए भी दूसरी बीबी लाने के अपराध में मुकदमा दर्ज हुआ है ..थाना है लखनऊ का आशियाना थाना जिसमे महबूब की बीबी की मांग पर केस दर्ज कर चल रही है जांच ..जिस बीबी ने ये आरोप लगाया है वो असल मे लव जिहाद पीड़िता है जिसे कई रंगीन सपने , झूठे वादे कर के लव जिहादी महबूब हैदर ने अपने जाल में फंसाया, फिर निकाह कर के उसको मुसलमान बनाया और अब जब उसका मन भर गया तो ले आया एक नई औरत , उसका भी अपने जैसा सलूक करने के लिए ..

इस मामले में पीड़िता के वकील का दावा है कि यह देश का पहला मामला है ..साल 2015 में कैसरबाग की रहने वाली 38 साल की विधवा ईसाई महिला को कानपुर के महबूब हैदर ने तमाम वादे किये जिसमे वफादारी, प्यार, समर्पण आदि तमाम बातें थीं लेकिन निकाह के बाद वो अपने आक्रांता रूप में आ गया था ..उसका लक्ष्य ईसाई महिला को मुसलमान बनाना था जो उसने सबसे पहले किया ..तब महिला पूरी तरह से सेकुलर थी और मत मज़हब के मामले में महबूब जैसे साजिश व गन्दगी भरे विचारों की नहीं थी .. 

बताया जा रहा है कि निकाह के लिए एक मौलवी बुलाया गया जिसके बाद उस पर ईसाई से मुसलमान बनने का दबाव बना जिसके लिए प्रेम सर्वोपरि रखते हुए लड़की ने इसको स्वीकार भी कर लिया ..धीरे धीरे महबूब हैदर पीड़ित पर बुर्का पहनने, किसी से बात न करने आदि के दबाव बनाने लगा और लच्छेदार बातें करने वाला हैदर एक क्रूर जिहादी के रूप में सामने आने लगा .. लड़की ने माना कि अब उसके स्वाभिमान और सम्मान पर हमला है इसलिए और इसको ही लेकर दोनों के बीच तनाव बढ़ने लगा। 

बाद में पता चला कि उसकी जिंदगी तबाह करने वाला महबूब हैदर एक और बीबी के साथ इलाहाबाद में समय बिताता है जो इस ईसाई लड़की के लिए मौत से ज्यादा दर्दनाक था ..उसने जब इसका विरोध किया तब महबूब हैदर ने उसको फोन पर ही उसे छोड़ कर चला गया ..महिला को लगा कि किसी और का हाल वो ऐसे वहशी के साथ न होने देगी इसलिए उसने अदालत की शरण ली और पीड़िता के मामले में जज के आदेश पर आशियाना थाने में हैदर के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। इसमें आईपीसी की धारा 494, 420 और 507 लगाई गई हैं। इसमें आरोपी को सात साल की जेल भी हो सकती है।

आशियाना थाने से मिली जानकारी के अनुसार मामले की जांच चल रही है और जल्द ही कानूनी प्रक्रियाओं के अधीनस्थ आरोपी पर उचित कार्यवाही की जाएगी …किसी मुस्लिम लड़के पर एक निकाह रहते दूसरा निकाह पर मुकदमे का ये भारत का पहला मामला है ..यद्द्पि दुख का विषय ये है कि कट्टरपंथी मुस्लिम इस मामले में हैदर महबूब के पक्ष में लामबंद हो रहे हैं लेकिन बात बात पर सरकार आदि को नोटिस भेजता महिला आयोग आदि उस ईसाई महिला को अकेला छोड़ चुका है उन तमाम मज़हबी ठेकेदार के आगे लड़ने के लिए …इस मामले में हर दिन हिन्दू संगठनों पर झूठे आरोप मढ़ने वाले ईसाई समुदाय के वो खास लोग भी खामोश हैं जो उस महिला के संघर्ष को और अधिक सम्मान के योग्य बनाता है ..

Share This Post