Breaking News:

खतरनाक आतंकी संगठन हिजबुल ने रियाज को बनाया अपना नया कमांडर, घाटी में आतंक फैलाने के लिए रच रहा है नई साजिश

श्रीनगर : हिजबुल कमांडर सबजार बट की मौत के बाद सबसे खतरनाक आतंकी संगठन ने अपना नया कमांडर चुन लिया है। इस आतंकी संगठन ने 29 साल के रियाज नाइको को कमांडर की जिम्मेदारी सौंपी है। रियाज को कट्टर आतंकी के तौर पर माना जाता है। रियाज का नाम हिजबुल के उन आतंकियों में शामिल है जो लंबे समय से इस आतंकी संगठन के साथ जुड़े हुए हैं। आपको बता दें कि हिज़बुल मुजाहिदीन अप्रैल, 1990 में अस्तित्व में आया एक अलगाववादी संगठन है। इसका गठन मुहम्मद एहसान डार ने किया था।

बता दें जम्मू कश्मीर में बारामूला के रामपुर सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे 6 आतंकियों को सेना के जवानों ने ढेर कर दिया था। मारे गए आतंकवादियों में टॉप हिज्बुल कमांडर सब्जार अहमद भट्ट भी शामिल था। सब्ज़ार को बुरहान वानी के बाद हिज्बुल की कमान सौंपी गई थी। पिछले साल जुलाई में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद सब्ज़ार अहमद भट्ट हिजबुल सब्जार को ‘सब डॉन’ के नाम से भी जाना जाता था।

बता दें कि रियाज आतंकी संगठन से जुड़े सभी आतंकियों में सबसे पुराना है। रियाज न सिर्फ काफी टेक-सेवी है, बल्कि वह घाटी में धर्मनिरपेक्ष संस्कृति को बढ़ावा देने में भी विश्वास रखता है। रियाज नाइको, जाकिर मूसा के विचारों का लगातार विरोध करता रहा है। रियाज नाइको कुछ महीने पहले ही एक विडियो से चर्चा में आया था। 11 मिनट के इस विडियो में उसके सहयोगी जुबैर की ओर से कश्मीरी पंडितों को संबोधित करते हुए उनसे घाटी में लौटने की अपील की गई थी। विडियो में कहा गया था कि हम कश्मीरी पंडितों से आग्रह करते हैं कि वो घाटी में वापस लौट जाएं।

सूत्रों के अनुसार, हिजबुल मुजाहिदीन पर इस समय आतंकी संगठन आईएसआईएस का बहुत दबाव है। खुफिया एजेंसियों के मानें तो उदारवादी विचारों वाले रियाज को कमांडर बनाकर हिजबुल जाकिर मूसा के प्रभाव को कम करना है, क्योंकि कश्मीरी हार्डलाइनर्स के बीच मूसा की लोकप्रियता बढ़ रही है। ऐसे में उदारवादी रियाज को कमांडर बनाकर हिजबुल शायद यह संदेश भी देना चाहता है कि उसका मकसद कश्मीर में इस्लामिक शासन की स्थापना नहीं है।

Share This Post