पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली तथा बीजेपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली का निधन… गम में डूबी बीजेपी


भारतीय जानता पार्टी के कद्दावर नेता तथा पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन हो गया है. जेटली जी ने दिल्ली के एम्स में दोपहर 12.07 बजे अंतिम सांस ली है. वह 66 वर्ष के थे. उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने के कारण 9 अगस्त को ही एम्स में भर्ती किया गया था. जेटली के निधन की खबर सुनने के बाद बीजेपी अध्यक्ष तथा केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपने हैदराबाद दौरे को खत्म कर दिया है. वह हैदराबाद से दिल्ली के लिए निकल चुके हैं.

जेटली के फेफड़ों में पानी जमा हो रहा था, जिसकी वजह से उन्हें सांस लेने में दिक्कत आ रही था. यही वजह है कि डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेटर पर रखा था. उन्हें सॉफ्ट टिशू सरकोमा था, जो एक प्रकार का कैंसर होता है. बता दें कि जेटली पहले से डायबिटीज के मरीज थे. उनका किडनी ट्रांसप्लांट हो चुका था. सॉफ्ट टिशू कैंसर की भी बीमारी का पता चलने के बाद वह इलाज के लिए अमेरिका भी गए थे. उन्होंने मोटापे से छुटकारा पाने के लिए बैरिएट्रिक सर्जरी भी करा रखी थी.

अरुण जेटली की छबि  एक ऐसे नेता की थी जो जिनका स्वाभाव बेहद ही विनम्र तथा सौम्य था. जेटली जी के बारे में कहा जाता था कि वह अपनी आक्रामकता को भी बेहद ही सटीक तथा शालीन अंदाज में व्यक्त करते थे. पीएम मोदी के बेहद ही करीबी नेताओं में अरुण जेटली जी की गिनती की जाती थी. मोदी सरकार 1 में वित्त मंत्री का कार्यभार संभालने वाले जेटली ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर कहा था कि स्वास्थ्य कारणों से वो नई सरकार में कोई ज़िम्मेदारी नहीं चाहते हैं. उन्होंने लिखा था कि बीते 18 महीनों से उन्हें स्वास्थ्य समस्याएं हैं जिसके कारण वह कोई पद नहीं लेना चाहते हैं.

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली जी के निधन पर सुदर्शन परिवार उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता है तथा दुःख की इस कठिन घड़ी में उनके परिजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता है..

 

“अलविदा जेटली जी”


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...