मानवता का एक पहलू ये भी है जिसपर किसी की नजर नहीं. पर मानवता प्रचार की मोहताज नहीं…

कहते हैं अगर किसी चीज को दिल से चाहो, तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने की कोशिश करती है। ऐसा ही उदाहरण राजधानी दिल्ली में सामने आया है जहां दिल्ली महिला आयोग ने दो प्यार करने वालों को मिलाने की सफल कोशिश की है। आयोग ने एक प्रेमी जोड़े के इश्क की कहानी को अंजाम तक पहुंचा दिया है। जीबी रोड के कोठे से लड़की को निकालकर महिला आयोग ने उसके प्रेमी से मिलवा दिया। अब जल्द ही दोनों शादी के पवित्र बंधन में बंधना चाहते हैं।
दरअसल, एक लड़का दिल्ली महिला आयोग के पास मदद के लिए पहुंचा था। लड़के ने बताया था कि वो एक लड़की से प्यार करता है, जो जीबी रोड के कोठे पर सेक्स वर्कर है। लड़के की शिकायत पर महिला आयोग ने पुलिस की मदद से लड़की को रेस्क्यू कराया। लड़का दिल्ली के सदर बाजार इलाके का रहने वाला है। जीबी रोड के 68 नंबर कोठे पर लड़का ग्राहक बनकर जाता था। धीरे-धीरे दोनों के बीच पहले दोस्ती हुई और फिर ये दोस्ती प्यार में तब्दील हो गई। 
जिसके बाद दोनों ने शादी का फैसला किया। मगर लड़का चाहता था कि शादी से पहले वो अपनी मोहब्बत को कोठे से आजाद करा ले। लड़की भी नई जिंदगी शुरू करने से पहले जिस्मफरोशी की इस दुनिया को छोड़ देना चाहती थी। लेकिन ये कैसे मुमकिन हो, इस सवाल को लेकर दोनों परेशान थे। फिर लड़के को किसी ने दिल्ली महिला आयोग का दरवाजा खटखटाने की जानकारी दी। दिल्ली महिला आयोग के मुताबिक लड़की ढाई साल पहले नेपाल से काम की तलाश में दिल्ली आई थी।
मगर बदकिस्मती से वो जीबी रोड पहुंच गई और तब से ही इस दलदल में फंसी हुई है। लड़की की उम्र 27 साल है। वहीं रेस्क्यू के बाद लड़की ने बताया कि आर्थिक तंगी की वजह से वह भारत काम की तलाश में आई थी। दिल्ली महिला आयोग की चेयरपर्सन स्वाति जयहिंद ने कहा कि जीबी रोड पर तस्करों का गैंग हावी है, जो लड़कियों की मजबूरी का फायदा उठाकर उन्हें जीबी रोड जैसे नर्क में धकेल देते हैं। स्वाति जयहिंद ने जीबी रोड के कोठों पर बैन की भी बात कही।
Share This Post