केजरीवाल के सरकारी वकील को जिम्मा था कन्हैया कुमार के खिलाफ कोर्ट में मजबूती से लड़ने का लेकिन आखिर वो केजरीवाल सरकार के वकील थे

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के सरकारी वकील को जिम्मेदारी दी गई थी कि वह JNU में देशद्रोही नारे लगाने के आरोपी वामपंथी कन्हैया कुमार के खिलाफ मजबूती से केस लड़ेंगे.. लेकिन चूँकि वो वकील केजरीवाल सरकार के थे इसलिए उन्होंने इस मामले में हैरान करने वाला रवैया अपनाया है. खबर के मुताबिक़, दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के सरकारी वकील जवाहर लाल यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्रसंघ प्रमुख कन्हैया कुमार के खिलाफ देशद्रोह का आरोप लगाए जाने के खिलाफ है.

सैलून चलाने वाले इखलाख खान ने बड़े शान से फेसबुक पर खुद को लिखा “जैश-ए-मोहम्मद” का सदस्य.. जबकि उसे इलाके के हिन्दू मानते थे सेक्यूलर

मीडिया सूत्रों की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली सरकार के गृह विभाग के सूत्रों से पता चला है कि दिल्ली सरकार ने सरकारी वकील राहुल मेहरा से राय मांगी खयी कि क्या फरवारी 2016 में कन्हैया कुमार और उनके सहयोगियों द्वारा दिया गया जेएनयू कैंपस में दिया गया भाषण देशद्रोह की श्रेणी में आता है? इस राय पर सरकारी वकील राहुल मेहरा ने कहा कि उन्होंने असली शिकायत को पढ़ा है, जो कि यूनिवर्सिटी की उच्च स्तरीय कमेटी ने 9 फरवरी 2016 की घटना के बारे में दी थी.

जो पार्टी सोनभद्र पर मचा रही थी सबसे ज्यादा शोर, हत्यारा निकला उसी का कार्यकर्ता

सरकारी वकील राहुल मेहरा का कहना है कि वो इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि पुलिस ने जो चार्जशीट दाखिल की है, उसमें कुछ गड़बड़िया हैं. गृह विभाग को बताया गया है कि सरकार और उसकी नीतियों की आलोचना करना राष्ट्रदोह नहीं है. उन्होंने आगे कहा कि यदि विरोधी आवाजों को दबा दिया जाए तो वह लंबे समय में लोकतंत्र के लिए खतरनाक हो सकता है. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट बिना किसी पूर्व अनुमति के दाखिल की है और ऐसा लगता है कि पुलिस इस केस को लेकर चल रही चर्चाओं का फायदा उठाने की कोशिश कर रही है.

24 जुलाई: बलिदान दिवस पर नमन है अंग्रेजो की जड़ें हिला देने वाले उस वीर चैन सिंह को जिन्हें कहा जाता है मध्यप्रदेश का मंगल पाण्डेय

केजरीवाल सरकार के सरकारी वकील राहुल मेहरा के मुताबिक, गलत तरीके से दी गई मंजूरी की वजह से सभी आरोपियों का जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. सरकारी वकील राहुल मेहरा ने कहा है कि ये सभी छात्र हैं. कन्हैया और अन्य 9 लोगों के भाषण पर उन्होंने अपनी राय दिल्ली सरकार के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन को पिछले हफ्ते भेज दी है. उन्होंने कहा कि ये घटना भावनाओं में बहकर हुई और इसमें किसी भी आरोपी की मंशा किसी तरह की हिंसा भड़काने या सार्वजनिक अवहेलना की नहीं थी. बता दें कि JNU में देशविरोधी नारेबाजी को लेकर पुलिस ने जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार,उमर खालिद, अनिर्बान भट्टाचार्य और अन्य को भी आरोपी बनाया है. इन पर आईपीसी की धारा 124A(देशद्रोह) और अन्य विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं-

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW