बकरीद में ऊँट काटने वालो को जेल भेजने का एलान करते ही पूरा UP बोल पड़ा – “शाबास साहनी”

वो नाम ही काफी माना जाता है अपराध को दबा देने के लिए यद्दपि उनका नाम और काम दोनों साथ बोलता है.. ज्यादा समय नहीं बीता उन दिनों को जब मेरठ की कानून व्यवस्था पर किसी के भी हाथो की दसों उँगलियाँ उठा करती थी . कोई विपक्ष का नेता नहीं बल्कि खुद सत्ता पक्ष के ही कार्यकर्ता मानते थे कि पुलिस की कप्तानी में सुधार की जरूरत है और वो जरूरत पूरी जैसी हो गई है जांबाज़ IPS अफसरों में गिने जाने वाले अजय साहनी के आते ही और बदलने लगा है मेरठ .

उत्तर प्रदेश के मुठभेड़ विशेषज्ञों में से सबसे प्रमुख नाम है अजय साहनी का जिनके काम की गूँज उनके उस जिले से हटने के बाद ही रहती है. उनके ट्रांसफर होने के बाद भी नया कप्तान काफी दिन तक निश्चिंत रहता है क्योकि काफी समय तक पुलिस का कहर झेले अपराधी अपनी टूटी कमर सीधे करने में लगा देते हैं . बात चाहे बाराबंकी की हो या अलीगढ की , जिस भी जिले में IPS अजय साहनी की पोस्टिंग रही है वो जिला खुद से ही राष्ट्रीय मीडिया में चर्चित हो जाया करता है ..

मेरठ में जिस प्रकार से मात्र 1 माह में कानून व्यवस्था सुधरी है उसके लिए सबसे बड़ा योगदान इन्ही का है जिन्होंने पुलिस को इसे आमूलचूल ढंग में ढाला कि सब कुछ बदल सा गया.. हर दिन अपराधियों के आगे पुलिसकर्मी खड़े दिखाई देने लगे .. फिर अपराधियों की गोली पुलिस और और पुलिस का जवाब अपराधियों पर जाने लगा और बीच में आम सभ्य जनता को शांति मिली. मतलब जनता और अपराधी के बीच में पुलिस एक अभेद्य दीवाल बन गई है मेरठ में..

अब तक अपने पुलिस जीवन में कई दुर्दांत अपराधियों और आतंकियों को ढेर कर चुके IPS अजय साहनी के पास जब कुछ प्रतिनिधि बकरीद में ऊँट काटने की अनुमति मांगने पहुचे तब उन्हें साफ़ साफ जवाब मिला कि किसी भी प्रकार से ऊँट नहीं काटा जाएगा जनपद मेरठ में.. इतना ही नहीं , सभी थानेदारों को बाकायदा संदेश भेज दिया गया कि जिसके थानाक्षेत्र में ऊँट काटा जाएगा उस सम्बन्धित दोषी को अविलम्ब फ़ौरन गिरफ्तार कर के जेल भेजा जाय .

यही नहीं , प्रतिनिधियों से साफ साफ़ ये भी कह दिया गया है कि बकरीद के दिन अगर किसी जगह पर ऊँट को बाकायदा सजा संवार कर भी ले जाया गया तो सम्बन्धित के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी . इस आदेश को देने के बाद एक बार एक बड़ा संदेश पूरे उत्तर प्रदेश में चला गया कि कोई नई परम्परा नहीं शुरू होने दी जायेगी.. इस आदेश को देने के बाद जीव प्रेमियों के हीरो के रूप में सामने आये हैं SSP अजय साहनी और हर तरफ उनके अटल निर्णय की मुक्त कंठ से प्रसंशा की जा रही है .

 

रिपोर्ट –

राहुल पाण्डेय

सहायक सम्पादक – सुदर्शन न्यूज 

मुख्यालय- नोएडा 

मो- 09598805228

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW