एक पार्टी जिसके लगभग 700 पेज खुद फेसबुक को हटाने पड़े , क्योकि वो फैला रहे थे झूठ

एक ऐसी पार्टी जिसने कई बार मीडिया के भगवाकारण होने और यहाँ तक कि कईयों को गोदी मीडिया जैसे शब्दों से सम्बोधित किया था अब सत्य क्या है और झूठ क्या है ये खुद फेसबुक से साबित किया है . चुनावों से पहले एक बड़ी कार्यवाही खुद फेसबुक ने कर डाली है और उसने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से जुड़े 687 पेज को अपने प्लेटफ़ॉर्म से हटा दिया है.  ये सभी पेज सीधे सीधे राहुल गाँधी का महिमामंडन और कांग्रेस की खबरों को अपने अंदाज़ में फैला रहे थे .

टिकट बेचने की मंडी बता गया अपनी ही पार्टी को.. कौन सी पार्टी है जिस पर आरोप है टिकट बेचने का

विदित हो कि ये बड़ी कार्यवाही फेसबुक ने तब की है जब भारत की दिशा और दशा के लिहाज से अतिमहत्वपूर्ण लोकसभा चुनाव शुरू होने में मात्र 10 दिन शेष बचे हैं . इन पेजों को हटाते हुए खुद फ़ेसबुक ने इस बात को कहा है कि इन पेजों द्वारा ‘चलाई जा रहीं गतिविधियां अप्रमाणिक’ पायी गई हैं. देश में फ़ेसबुक की ओर से किसी मुख्य राजनीतिक पार्टी से जुड़े पन्नों पर ऐसी कार्रवाई पहले शायद ही कभी की गयी हो. मतलब अब झूठ को फेसबुक भी अभिव्यक्ति की आज़ादी नहीं मानता है . फ़ेसबुक के साइबर सेक्योरिटी नीतियों के प्रमुख नेथेनील ग्लेइशेर ने कहा, ”इस पन्ने पर एक्टिव यूजर्स ने अपनी पहचान छुपाए रखा था, साथ ही हमारी समीक्षा में हमने पाया कि ये अकाउंट कांग्रेस के आईटी सेल से ही जुड़े लोगों के थे.”

“मैं नही बनूंगा प्रधानमन्त्री” – मुलायम सिंह यादव

अगर फेसबुक के कुल प्रयोगकर्ताओं की बात की जाय तो वर्तमान में इसके लगभग 30 करोड़ यूज़र्स हैं ..  सोमवार को इसी कम्पनी ने बताया है कि उसकी जांच में पाया गया कि कई फ़ेक अकाउंट वाले यूज़र्स इन ग्रुप का हिस्सा थे . इन अकाउंट ने कई अन्य ग्रुप से भी खुद को जोड़ रखा था ताकि इस ग्रुप की सामग्री का प्रसार कर सकें. फ़ेसबुक ने बताया कि इस पन्ने पर कई स्थानीय समाचार और सत्ता पक्ष के नेता नरेंद्र मोदी की आलोचनाओं से भरे पोस्ट शेयर किए जा रहे थे.

चुनाव से पहले राष्ट्रगीत पर बवाल.. फिर बोला एक नेता- “मेरा धर्म नहीं दे रहा इजाजत”

 

 

Share This Post