आर्थिक जिहादी असलम उगल रहा अपने पाप.. बताया कि कैसे अर्थव्यवस्था को तबाह करने पर आमादा है भगोड़ा हत्यारा दाउद


बम धमाकों के साथ हिंदुस्तान की पावन धरती को लहूलुहान करने वाले मजहबी उन्मादियों ने हिन्दुस्तान की अर्थव्यवस्था पर भी वार करना शुरू कर दिया है. कहना गलत नहीं होगा कि भारत के दुश्मनों ने भारत को चौतरफा वार कर के संकट में लाने का मन बना लिया है. इस साजिश को अंजाम देने के लिए कभी आतंकवाद का सहारा, कभी लव जिहाद का सहारा, कभी उन्माद का सहारा, कभी दंगो को हथियार बनाया जाता रहा है लेकिन अब उन्मादियों ने सीधे सीधे आर्थिक अपराध से भी भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ पर चोट की जा रही है.

मामला देश की राजधानी दिल्ली का है जहाँ दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने नकली नोटों की सप्लाई करने वाले इंटरनेशनल रैकेट का पर्दाफाश किया है. इस रैकेट के तार मोस्ट वॉन्टेड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से जुड़े बताए जा रहे हैं. पुलिस ने असलम अंसारी नाम के तस्कर को गिरफ्तार किया है. वह नेपाल का रहने वाला है. उसके कब्जे से 2 हज़ार रुपये के नकली नोट बरामद हुए हैं, जिनकी कीमत 5 लाख 50 हज़ार रुपये है.
पूंछताछ में असलम ने खुलासा किया है कि ये जाली नोट उसे पाकिस्तान से मिल रहे थे. वो बस इन्हें भारत में सप्लाई कर रहा था. पाकिस्तान से जाली नोटों की खेप बड़े पैमाने पर नेपाल के रास्ते भारत आ रही है. पूछताछ में असलम ने बताया कि अब्दुल रहमान नाम का शख्स उसे नोट देता था. जिसे दाऊद इब्राहिम नोट भेजता है. असलम ने बताया है कि दाउद भारत की अर्थव्यस्था को तबाह करने पर आमादा है. जानकारी के मुताबिक पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) और दाऊद इब्राहिम मिल कर जाली नोटों की फैक्ट्री चला रहे हैं.
असलम ने पूछताछ में खुलासा किया कि नेपाल निवासी अब्दुल रहमान, सज्जाद और शेर मोहम्मद जाली नोटों का धंधा करते हैं. जाली नोट पाकिस्तान से नेपाल में इनके पास पहुंचते हैं. उसने बताया है कि अब्दुल रहमान ही असलम को जाली नोट भारत मे सप्लाई करने के लिए देता था. अब्दुल रहमान ने असलम को बताया कि ये जाली नोट पाकिस्तान में बैठा दाऊद इब्राहिम भेजता है. असलम ने खुलासा किया कि पाकिस्तान से जाली नोट नेपाल आ जाते हैं. फिर ये नकली करेंसी बिहार रक्सौल बोर्डर पर मौजूद जाली नोटों के एजेंट मोहम्मद सग़ीर व उसके साथियों तक पहुंचाए जाते हैं.
असलम ने बताया है कि मोहम्मद सागीर व उसके साथ नकली नोटों की ये खेप भारत के अन्य हिस्सों में पहुंचाते हैं. नकली नोटों के तस्कर असलम से पूछताछ में दाऊद इब्राहिम का नाम आने के बाद जांच एजेंसियों के कान खड़े हो गए हैं. अब पुलिस जाली नोटों के इस सिंडीकेट को तोड़ने में जुट गई है. पुलिस इस बता की भी पड़ताल कर रही है कि आखिर इस गिरोह में और कौन शामिल है तथा कहीं दिल्ली में भी तो कहीं ये गिरोह संचालित नहीं हो रहा है.

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...